जयपुरः राजस्थान सरकार ने अलवर जिले के थाना गाजी क्षेत्र में एक महिला के साथ पांच आरोपियों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म करने के मामले के संदर्भ में अलवर के पुलिस अधीक्षक राजीव पचार को हटा दिया है. अतिरिक्त मुख्य सचिव :गृह: राजीव स्वरूप की ओर से कल रात जारी आदेश के अनुसार अलवर पुलिस अधीक्षक पचार अग्रिम आदेश की प्रतीक्षा में रहेंगे.Also Read - राजस्थान में थाने में एके-47 से चोलियां चलाकर साथी 'विक्रम गुज्जर' को छुड़ा लेकर गए बदमाश

राज्य सरकार ने थाना गाजी गैंगरेप पीड़िता को अनुसूचित जाति/जन जाति और अनुसूचित जनजाति(अत्याचार निवारण) नियम-1989 नियम 1995 एवं यथा संशोधित 2018के नियम 12(4) के प्रावधानों के तहत 4 लाख 12 हजार 500 रूपये की अंतरिम सहायता राशि स्वीकृत की है.गृह विभाग के निर्देश अनुसार पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान की गई है Also Read - 7 महीने की बच्ची से दुष्कर्म आरोपी को मौत की सजा, महज 70 दिन में आया फैसला

उल्लेखनीय है कि राजस्थान के अलवर जिले के थानागाजी थाना क्षेत्र में अपने पति के साथ बाइक पर जा रही एक महिला के साथ उसके पति के सामने ही पांच आरोपियों ने कथित तौर पर दुष्कर्म कर घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया था .इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. वहीं थानाधिकारी को निलंबित कर दिया गया है. 26 अप्रैल को हुई इस घटना के संबंध में दो मई को पांच आरोपियों के खिलाफ संबंधित आईपीसी और एससी/एसटी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है. Also Read - Woman killed, murderer said he save Rajput pride family loses breadwinner | नौकरी करने पर महिला की हत्या, आरोपी बोला- 'कोई औरत काम करे, यह राजपूताना शान के खिलाफ'