नई दिल्ली/ जयपुर: राजस्थान में विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां तेज होने के बीच बीजेपी के मौजूदा सांसद हरीश मीणा बुधवार को कांग्रेस में शामिल हो गए. आम चुनाव से पहले इसे भाजपा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. नई दिल्ली में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तथा पार्टी के राज्य प्रभारी अविनाश पांडे की उपस्थिति में मीणा ने कांग्रेस का हाथ थामा.Also Read - Maharashtra: नांदेड़ से तीन बार सांसद रह चुके भास्‍करराव खतगांवकर ने BJP छोड़ी, कांग्रेस में वापस लौटे

Also Read - यदि वीर सावरकर ने वास्तव में अंग्रेजों से माफी मांगी होती तो उन्हें कोई न कोई पद दिया गया होता: पौत्र रंजीत

राजस्थान की चुनावी जंग में अशोक गहलोत और सचिन पायलट भी उतरेंगे, दोनों लड़ेंगे चुनाव Also Read - CM भूपेश बघेल ने RSS की तुलना नक्सलियों से की, बोले- इनकी धर्मांतरण और सांप्रदायिकता में मास्टरी

हरीश मीणा राजस्थान की दौसा सीट से भाजपा के सांसद हैं. उन्होंने 2014 के आम चुनाव में अपने बड़े भाई और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नमोनारायण मीणा को पराजित किया था. पूर्ववर्ती अशोक गहलोत सरकार में राज्य के पुलिस प्रमुख रहे पूर्व आईपीएस अधिकारी हरीश मीणा मार्च 2014 में भाजपा में शामिल हुए. पार्टी ने उन्हें दौसा सीट पर उनके ही बड़े भाई और तत्कालीन केंद्रीय राज्यमंत्री नमोनारायण मीणा के खिलाफ उतारा. इस सीट पर हरीश विजयी रहे जबकि, किरोड़ीलाल मीणा दूसरे और नमोनारायण मीणा तीसरे स्थान पर आए.

मीणा का कांग्रेस में स्वागत करते हुए पार्टी के संगठन महासचिव गहलोत ने कहा, ‘पूरे देश में कांग्रेस में शामिल होने के लिए लोगों की कतार लगी गई. आज इसी क्रम में मीणा बिना किसी शर्त के कांग्रेस में शामिल हुए हैं.’ उन्होंने कहा कि मीणा के आने से राजस्थान में पार्टी मजबूत होगी. इस बीच गहलोत ने स्पष्ट किया है कि राजस्थान के आगामी विधानसभा चुनाव में वह खुद और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट चुनाव मैदान में उतरेंगे.

गहलोत ने मीडियाकर्म‍ियों से कहा, ‘भाजपा की ओर से प्रचारित किया जा रहा था कि कांग्रेस में फूट है, अंदरूनी कलह है, जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है. कांग्रेस पूरी तरह एकजुट है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं यानी गहलोत और पायलट दोनों ही विधानसभा चुनाव लड़ेंगे.’

इस मौके पर मौजूद पायलट ने भी कहा, ‘राहुल गांधी के निर्देश और गहलोत जी के निवेदन पर मैं चुनाव लडूंगा. गहलोत जी भी चुनाव लड़ेंगे.’ बता दें कि राजस्थान विधानसभा की 200 सीटों के लिए सात दिसंबर को चुनाव होगा.