राजस्थान भाजपा में गुटबाजी ने एक नया मोड़ ले लिया है और 22 साल पहले राज्य इकाई के प्रमुख सतीश पूनिया का तीन पन्नों का इस्तीफा सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. पत्र ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाले पूनिया विरोधी खेमे से दिलचस्प टिप्पणी करते हुए रेगिस्तानी राज्य में राजनीतिक हलचल पैदा कर दी है. पूरे प्रकरण ने एक बार फिर अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भगवा खेमे में गुटबाजी की पोल खोल दी है.Also Read - Rajasthan Hindi News: सतीश पूनिया पर हमले के विरोध में भाजपा का धरना, कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लगाया आरोप

यह पत्र पूनिया ने तब लिखा था जब वह भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) की राज्य इकाई के प्रमुख का पद संभाल रहे थे और 1999 में चुनाव टिकट से वंचित होने के बाद इस्तीफा दे दिया था. राजस्थान भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष गुलाब चंद कटारिया को लिखे पत्र में पूनिया ने राजेंद्र राठौर और राम सिंह कस्वा जैसे दिग्गज नेताओं को ‘भस्मासुर’ करार दिया था, साथ ही पूर्व उपराष्ट्रपति भैरों सिंह शेखावत, हरिशंकर भाभड़ा और ललित किशोर चतुर्वेदी पर पीठ में छुरा घोंपने का आरोप लगाया था. Also Read - Rajasthan News: सीएम गहलोत ने दी अहम प्रस्ताव को मंजूरी, अब समय से पहले रिहा हो सकेंगे ये कैदी, मगर इन्हें कोई लाभ नहीं

हिंदू पौराणिक कथाओं में, ‘भस्मासुर’ एक राक्षस था जिसे जलाने की शक्ति दी गई थी और वह तुरंत ही राख में बदल जाता था, जिसके सिर को वह अपने हाथ से छूता था. इस बीच, पूनिया ने इस घटना को हल्के में लेते हुए कहा, ‘इस समय 22 साल पुराना एक पत्र जारी होना अजीब राजनीति की एक अद्भुत कहानी है. उन दिनों भी, मैंने आम नेताओं का प्रतिनिधित्व किया था और आज भी, मैं आम कार्यकर्ताओं के साथ खड़ा हूं. पार्टी के मंच पर अपनी बात रखने के बाद पार्टी नेतृत्व ने मुझे एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है. मैं अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन कर रहा हूं.’ Also Read - Rajasthan: जयपुर की महापौर सौम्या गुर्जर और तीन पार्षदों के निलंबन पर बीजेपी-राज्‍य सरकार के बीच घमासान

इस बीच, राजे खेमे के पूर्व मंत्री, रोहिताश शर्मा, जिन्हें हाल ही में ‘पार्टी विरोधी’ गतिविधियों के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था, ने कहा, ‘जो व्यक्ति खुले तौर पर अनुशासन की सभी सीमाओं का उल्लंघन करता है, वह किसी को अनुशासन कैसे सिखा सकता है.’ अलवर में एक बैठक के दौरान पार्टी के खिलाफ बोलने का आरोप लगने के बाद शर्मा को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था.

राजस्थान के भगवा पार्टी के प्रभारी अरुण सिंह ने हाल ही में जयपुर के अपने दौरे के दौरान कहा था कि पार्टी के खिलाफ बोलने वालों को दंडित किया जाएगा. उनकी घोषणा के ठीक एक दिन बाद शर्मा को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था, जिन्होंने अभी तक इस मामले में अपना जवाब दाखिल नहीं किया है.

पूनिया खेमे के एक व्यक्ति ने कहा कि यहां राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि 22 कार्यों के बाद पुनिया का पत्र उनके प्रतिद्वंद्वी खेमे की करतूत है, जो राज्य भाजपा अध्यक्ष को खराब रोशनी में दिखाने की कोशिश कर रहा है. (IANS Hindi)