नई दिल्ली: कांग्रेस ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावत करने वाले सचिन पायलट के विरूद्ध सख्त कदम उठाते हुए उन्हें मंगलवार को उप मुख्यमंत्री एवं पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष पदों से हटा दिया. इसके साथ ही पार्टी ने पायलट के साथ गए सरकार के दो मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह एवं रमेश मीणा को भी उनके पदों से तत्काल प्रभाव से हटा दिया. इन तमाम घटनाक्रमों के बीच अब राज्य में भारतीय जनता पार्टी भी एक्टिव हो गई है. राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) की बुधवार यानी आज सुबह 11 बजे जयपुर में बैठक होगी. Also Read - कांग्रेस को फिर लगा बड़ा झटका, पूर्व मंत्री सहित दो बड़े नेताओं ने छोड़ी पार्टी, भाजपा में हुए शामिल

दरअसल कांग्रेस के कद्दावर नेता सचिन पायलट की अपने समर्थकों के साथ बगावत और उनके खिलाफ हुई कार्रवाई से पैदा हुई परिस्थितियों में बीजेपी अपने लिए संभावना ढूंढ रही है. इसी को लेकर बुधवार को बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) भी शामिल होंगी और राज्य BJP नेताओं के साथ मौजूदा हालात पर चर्चा करेंगी. Also Read - मध्य प्रदेश में अब कांग्रेस कर रही 'शुद्धिकरण', इन इलाकों में घर-घर बांटेगी गंगाजल

वसुंधरा राजे अभी धौलपुर में हैं. उनके जयपुर पहुंचने के बाद मंथन का अगला दौर शुरू होगा. इस बीच एक सर्वे में शामिल होने वाले एक तिहाई लोगों ने माना कि राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार अब टिक नहीं पाएगी और वहां बीजेपी की वापसी होगी. Also Read - जम्मू-कश्मीर के LG बनाए जाने पर BJP नेताओं ने की मनोज सिन्हा की तारीफ, कही ये बात

दूसरी तरफ, दोनों प्रमुख पदों से हटाए जाने के बाद अब यह देखना दिलचस्प होगा कि पायलट आगे क्या कदम उठाते हैं. कांग्रेस आलाकमान के निर्णय के बाद पायलट ने अपने पहले बयान में कहा कि ‘सत्य को परेशान किया जा सकता है, लेकिन पराजित नहीं किया जा सकता.’ पायलट के खिलाफ कार्रवाई के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने नयी दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मंत्रणा की.