जयपुर। राजस्थान में अलवर जिले के लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र में सात माह की एक मासूम बच्ची का अपहरण कर दुष्कर्म करने के आरोपी पिंटू को पॉक्सो अधिनियम के तहत दोषी करार देते हुए मौत की सजा सुनाई गई है. खास बात ये है कि इस मामले में अदालत ने मात्र 70 दिन में सुनवाई पूरी करते हुए फैसला सुनाया. पुलिस ने 27 दिन में ही चार्जशीट अदालत में पेश कर दी थी.Also Read - Rajasthan: अलवर की 15 साल की लड़की के साथ निर्भया जैसी बर्बरता? निजी अंगों में गंभीर चोट, ढाई घंटे चला ऑपरेशन

Also Read - Rajasthan: अलवर और धौलपुर जिले में पंचायत समिति सदस्य और जिला परिषद सदस्य के लिए वोटिंग 26 अक्‍टूबर को

Also Read - Rajasthan: REET Exam के कैंडिडेट्स ने अलवर में परीक्षा का बॉयकॉट कर प्रदर्शन किया, पेपर लीक होने की अफवाह फैलाई

पॉक्सो के तहत पहली कार्रवाई

पुलिस महानिदेशक ओ. पी. गल्होत्रा ने बताया कि पॉक्सो अधिनियम के तहत दोषी करार देने की यह पहली कार्रवाई है. उन्होंने बताया कि 12 साल से कम आयु की बच्चियों से दुष्कर्म के मामले में कठोर सजा देने के लिए 21 अप्रैल 2018 को यह दण्ड विधि संशोधन अस्तित्व में आया था.

कहीं 5वीं क्लास तो कहीं 6 साल की बच्ची से रेप, कठुआ-उन्नाव की तरह ही हैं ये केस

विशेष न्यायाधीश (अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण प्रकरण) जगेन्द्र अग्रवाल ने इस मामले में 12 पेशियां लगाते हुए 22 अदालती दिवसों में सुनवाई पूरी की. अन्तिम बहस 17 जुलाई को हुई और 18 जुलाई को आरोपी को दोषी करार दे दिया गया. दोषी को सजा का फैसला 21 जुलाई को सुनाया गया.

मासूम बच्ची का किया था अपहरण

पीड़िता के पिता ने नौ मई 2018 को अपनी बच्ची से दुष्कर्म होने की सूचना दी थी. बच्ची के पिता ने बताया कि बच्ची अपनी दृष्टिबाधित दादी के पास सो रही थी. आरोपी पिंटू मासूम को खिलाने के बहाने उठाकर ले गया था. पुलिस ने आरोपी के विरूद्व भारतीय दंड संहिता की धारा 363,366ए, 376 आईपीसी 3/4 और पॉक्सो अधिनियम में मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी थी. उन्होंने बताया कि नामजद आरोपी पिन्टू ने पूछताछ में अपना जुर्म कबूल कर लिया. पुलिस ने मात्र 27 दिन में जांच का काम पूरा करके अदालत में चालान पेश कर दिया था.

(भाषा इनपुट)