जयपुर: राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में ऊंटों की तस्करी के एक गैंग का खुलासा हुआ है. चित्तौड़गढ़ सदर थाना क्षेत्र से तीन ट्रकों में भर कर इंदौर ले जाए जा रहे 52 ऊंटों को मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने बरामद किया गया है. थानाधिकारी भारत सिंह राठौड ने मंगलवार को जानकारी देते हुए बताया कि मुखबिर की सूचना पर डीडवाना से इंदौर जा रहे दो ट्रकों को सदर थाना क्षेत्र में रोका गया. Also Read - MP Bypolls 2020: कमलनाथ का सीएम पर कटाक्ष, बोले- "अभिनय" में तो शाहरुख और सलमान को भी मात दे सकते हैं शिवराज सिंह चौहान

Also Read - इंदौर में ऑनलाइन सट्टेबाजी का बड़ा खुलासा, 1 करोड़ 31 लाख नगद बरामद

कोई दस्तावेज नहीं मिले Also Read - IIFA Awards 2020: अब इंदौर में नहीं आयोजित होगा 'आईफा अवार्ड' समारोह, सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले- मुझे तमाशे पसंद नहीं

थानाधिकारी ने बताया कि दोनों ट्रकों की जांच में 18-18 ऊंट ठूंस-ठूंस कर भरे पाए गए. वहीँ शंभूपुरा थाना क्षेत्र में एक अन्य ट्रक में भी 16 ऊंटों को ठूंस कर भरा गया था. उन्होंने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में तीनों ट्रकों के चालकों ने पूछताछ में कहा कि ऊंटों को डीडवाना से खरीदकर विक्रय के लिए  इंदौर ले जाया जा रहा है. लेकिन ऊंटों की खरीद के कोई भी दस्तावेज इनके पास नहीं पाए गए.

कांग्रेस का बीजेपी पर हमला, कहा- सरकार की नीतियों से आर्थिक आपातकाल, जनता बेहाल

राठौड़ ने बताया कि ऊंटों के अवैध रूप से परिवहन करने और वैध दस्तावेज नहीं होने पर, उत्तर प्रदेश के बागपत निवासी तीनों ट्रक चालक, एक खलासी और दो अन्य व्यक्तियों को को हिरासत में लिया गया है इनसे पूछताछ की जा रही है. पकड़े गए आरोपियों के नाम शकील, जाफर, जाकिर, शाकिर, वसीम और सरीन बताए गए हैं.

‘राजनीतिक असहिष्णुता’ का शिकार बनाए जाने से दुखी हैं प्रधानमंत्री: केंद्रीय मंत्री नकवी

उन्होंने बताया कि सभी आरोपियों को राजस्थान राज्य ऊंट संरक्षण अधिनियम और पशुक्रूरता अधिनियम के तहत हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. थानाधिकारी राठौड़ ने बताया कि तीनों ट्रकों से बरामद 52 ऊंटों की चिकित्सीय जांच के बाद भीलवाड़ा की एक गौशाला में भेजा जाएगा. उन्होंने कहा जिला कलेक्टर की स्वीकृति के बाद सभी ऊंटों को सिरोही के ऊंट केन्द्र में भेजा जाएगा. (इनपुट एजेंसी)