जयपुर: राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने शनिवार को कहा कि लोग कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर डरने के बजाय तुरंत अस्पताल पहुंच कर अपनी जांच और इलाज कराएं. उन्होंने कहा कि लोग कोरोना वायरस महामारी सहित किसी भी बीमारी को छिपाने की कोशिश नहीं करें क्योंकि इससे बीमारी के गंभीर होने की आशंका बढ़ जाती है. Also Read - बढ़ते लॉकडाउन और कोरोना के प्रभाव से परेशान हो गए हैं रणवीर सिंह, बोले- तबाह कर देने जैसा है

गहलोत ने यहां एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की, जिसमें उन्होंने अधिकारियों से कहा, ‘‘हमें लगातार सतर्क व सजग रहने की जरूरत है. विशेषकर बाहरी राज्यों से राजस्थान आ रहे श्रमिकों की प्रभावी जांच, जांच एवं पृथक-वास में भेजने की प्रक्रिया को मजबूत किया जाना जरूरी है. साथ ही, ग्रामीण क्षेत्र में नमूने एकत्र करना बढ़ाया जाए.’’ Also Read - Coronavirus In India Update: संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 51 हजार के पार, इस राज्य में सबसे अधिक मामले

मुख्यमंत्री ने जयपुर जिला जेल में एक साथ बड़ी संख्या में कैदियों के संक्रमित होने के मामले को गंभीरता से लिया. उन्होंने कहा कि इन मरीजों को उचित चिकित्सा उपलब्ध कराई जाए. साथ ही, मेडिकल प्रोटोकॉल का जेलों में भी पूर्ण अनुपालन सुनिश्चित किया जाए. Also Read - कोविड-19 जांच के लिए 4,500 रुपए की सीमा हटाई गई, अब राज्य और निजी प्रयोगशालाएं तय करेंगी कीमत

उन्होंने कहा कि इसका संक्रमण जरूर एक दूसरे से फैल रहा है लेकिन यह लाइलाज नहीं है. लोग घबराएं नहीं भारत में काफी लोग इससे ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं. सीएम ने यह भी कहा कि यह जरूरी नहीं है कि हर जुकाम वाले को कोरोना है लेकिन हमें ऐहतियात के तौर पर अपनी जांच जरूर करानी चाहिए.