जयपुर: कांग्रेस ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हाल ही में हुई रैली पर वसुंधरा राजे सरकार द्वारा किये गये खर्चे को सरकारी धन का दुरूपयोग बताया. वहीं भाजपा ने आरोपों को खारिज करते हुए इसे कांग्रेस की ओछी राजनीति करार दिया. Also Read - PM Modi's Gujarat Visit: पीएम मोदी पहुंचे गुजरात, केशुभाई को दी श्रद्धांजलि, मां हीरा बा से मिलेंगे

Also Read - जम्मू-कश्मीर में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या पर पीएम ने जताया दुख, कहा- यह अच्छा नहीं हुआ

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष सचिन पायलट के नेतृत्व में निकाली गई रैली में कहा गया कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने साढे़ चार साल के कुशासन को छुपाने के लिये प्रधानमंत्री की रैली का आयोजन कर सरकारी धन का दुरूपयोग किया है. पार्टी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए पायलट ने कहा कि प्रदेश की जनता इन सब बातों को समझती है, और आगामी विधानसभा चुनाव में इसका जवाब देगी. पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकताओं ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से सिविल लाईन्स रेलवे क्रॉसिंग तक रैली का आयोजन किया. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के शासन में 150 से अधिक किसानों ने आत्महत्या की, समाज के हर तबके का व्यक्ति भाजपा सरकार के कुशासन से परेशान है, लेकिन मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के सदस्य जनसंवाद के नाम पर नौटंकी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि किसानों, मजदूरों, विद्यार्थियों, कर्मचारियो, व्यापारियों, और अन्य लोगों को भाजपा के अत्याचारों का जवाब देने का समय आ गया है. Also Read - पीएम नरेंद्र मोदी की अपील पर बढ़ी खादी उत्पादों की बिक्री, 5 महीने में बिक गए 19 लाख फेसमास्क

राज्यपाल को ज्ञापन

राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को कांग्रेस पार्टी की ओर से राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन दिया गया है, जिसमें 7 जुलाई को आयोजित प्रधानमंत्री की रैली में कथित रूप से किये गये सरकारी धन के दुरूपयोग की जांच की मांग की गई है. पायलट ने चुनौती देते हुए कहा कि यदि भाजपा ईमानदार है तो किसी स्वतंत्र जांच ऐजेंसी से इसकी जांच करवानी चाहिए, जिससे यह साफ हो जायेगा कि भाजपा द्वारा चुनावी रैली के आयोजन के लिये सरकारी धन का उपयोग किया गया है. जयपुर जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रताप सिंह खाचरियावास और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोहन प्रकाश ने भी रैली को संबोधित किया.

वसुंधरा राजे का सिरदर्द बने उन्हीं के मंत्री: भाजपा मुख्यालय में जनसुनवाई के दौरान नेताओं के बीच बहस का वीडियो वायरल

भाजपा ने आरोपों को खारिज किया

वहीं कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए राजस्थान के संसदीय कार्य मंत्री राजेन्द्र राठौड ने पार्टी पर निम्न स्तर की राजनीति का आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी केन्द्र और राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की आलोचना सिर्फ सत्ता के लालच के लिये कर रही है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपना 52 साल का रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत करे, तो उसमें फेल होती नजर आयेगी. 52 साल असफल रही कांग्रेस विकास मॉडल वाली भाजपा सरकारों के विरुद्ध होहल्ला कितना ही मचाये, राजस्थान की जनता हकीकत समझती है और कांग्रेस की नौटंकीबाजी का जनता आगामी विधानसभा चुनावों में जवाब देगी.

‘बेलगाड़ी’ और जेल पर भिड़ंंत, पीएम मोदी के बयान पर भड़की कांग्रेस का पलटवार

पार्टी ने मांगा कांग्रेस से ब्योरा

राठौड़ ने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार देश की जनता के चहुंमुखी विकास के लिये काम कर रही है. भारत के प्रधान सेवक नरेन्द्र मोदी ने जब जयपुर में केन्द्र एवं राज्य सरकार की जनहितकारी योजनाओं के लाभार्थियों से सीधा संवाद किया तो पूरा राजस्थान उमड़ आया और शान्तिपूर्ण रूप से अपने प्रधान सेवक को सुना तो दिखावा और नौटंकी करने वाली कांग्रेस का बौखलाना स्वाभाविक ही है. उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षो में देश की अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार हुआ है. देश की जीडीपी फ्रांस से अधिक दर्ज की गई है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कार्यकाल में आयोजित रैलियों के खर्चे का ब्योरा पेश करना चाहिए. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जब-जब राजस्थान आये, तब-तब उनकी रैलियों का खर्चा क्या कांग्रेस ने उठाया था? राठौड़ ने कहा कि वर्षों तक भारत को लूटने वाले आज भारतीय जनता पार्टी की सरकार के द्वारा बुलाये गये समाज के अन्तिम स्तर से आये हुए व्यक्ति का अपमान कर रहे हैं.