JEE Mains Exam: कोरोना संक्रमण के बीच मंगलवार से शुरू हुई जेईई मेन्स परीक्षा का आज दूसरा दिन था. देशभर के 660 परीक्षा केन्द्रों पर ये परीक्षा 6 सितंबर तक होगी. काफी बवाल के बाद हो रही जेईई मेन्स की परीक्षआ के पहले ही दिन राजस्थान के कोटा के एक केंद्र पर बड़ी चूक सामने आई है. यहां जेईई मेन परीक्षा देने कोरोना पॉजिटिव छात्र परीक्षा केन्द्र पहुंच गया जिसके बाद वहां हड़कंप मच गया. Also Read - Covid-19 Big record: अमेरिका को पछाड़ इस मामले में TOP पर पहुंचा भारत, जानिए खुशखबरी

वहीं परीक्षा केंद्र पर उसे यह कहकर वापस लौटा दिया गया कि उसकी परीक्षा बाद में होगी, जबकि एनटीए की एडवाजरी व एडमिट कार्ड में कहीं भी यह जिक्र नहीं था कि पॉजिटिव छात्रों का आना जरूरी नहीं है. Also Read - Parenting Tips: कोरोना वायरस से संक्रमित महिलाएं शिशु को ब्रेस्ट फीडिंग कराते समय जरूर करें ये काम

इतनी बड़ी चूक होने के बाद अब केंद्रों को सूचित किया जा रहा है कि कोरोना से संक्रमित छात्रों का परीक्षा के लिए आना जरूरी नहीं है. अगर कोई परीक्षार्थी संक्रमित है तो एडमिट कार्ड के साथ पॉजिटिव रिपोर्ट केंद्र पर भेज सकता है. परीक्षा के लिए कई छात्र दूसरे शहरों से पहुंच रहे हैं, ऐसे में इस चूक से न सिर्फ संक्रमित को परेशानी उठानी पड़ी, बल्कि दूसरों के लिए भी कोरोना संक्रमण का खतरा पैदा हो गया है. Also Read - Schools Reopen News: छह महीने बाद सबसे पहले खुलेंगे ये स्कूल, जोर-शोर से चल रही है तैयारी

हालांकि कहा जा रहा है कि एनटीए द्वारा एडमिट कार्ड डाउनलोड करते समय ही हैल्थ को लेकर डिक्लेरेशन फाॅर्म भरवाया गया था. एनटीए को तभी कोरोना संक्रमित छात्रों का हैल्थ सर्टिफिकेट मांग कर उन्हें परीक्षा की नई तारीख आवंटित कर देनी चाहिए थी, या फिर जो सूचना परीक्षा शुरू होने के बाद सर्कुलेट की जा रही है, वह परीक्षा के पहले ही जारी कर देनी चाहिए थी. ऐसी चूक से बड़ी परेशानी हो सकती है.