भीलवाड़ा: राजस्थान के टेक्सटाईल कस्बे में एक निजी अस्पताल में तीन डॉक्‍टरों और 9 नर्सिंग कर्मियों के कोविड- 19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद महामारी खतरे के देखते हुए बड़े स्तर पर लोगों की जांच कराई जा रही है. जिला प्रशासन ने संक्रमण के स्रोत का पता लगाने के लिए जिले में कर्फ्यू लगा दिया है और शहर की सीमाओं को सील कर दिया है. Also Read - अजमेर जिले में धार्मिक कार्यक्रम के लिए 100 से ज्‍यादा लोगों का जमावड़ा, पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा

बता दें कि पहले से ही राजस्थान सरकार ने पूरे राज्य में 31 मार्च तक लॉकडाउन किया है और सामुदायिक स्तर पर वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए निषेधाज्ञा लागू की है. Also Read - Covid 19: New India Insurance 22 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को 50-50 लाख Rs. का बीमा कवर देगी

राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा, ”मार्च 19 से 24 तक 1,075 दलों ने लगभग 70,000 निवासियों का सर्वे किया है. शहर और ग्रामीण इलाकों में रह रहे 3.5 लाख लोगों की जांच की गई है. भीलवाड़ा में बिना जांच के प्रवेश और निकास निषेध कर दिया गया है. हम संक्रमण को समुदाय में फैलने से रोकने का प्रयास कर रहे हैं.” Also Read - राजस्थान में कोरोना संक्रमण के पांच नए मामले, राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 59 हुई 

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ”भीलवाड़ा की तुलना इटली से करना गलत है. कृपया किसी भी प्रकार की भ्रामक जानकारी से दूर रहें.”
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि किसी भी स्थिति से निपटने के लिए वेंटीलेटर, मास्क, सेनेटाइजर की कोई कमी नहीं है.

शर्मा ने कहा, निजी अस्पताल के कर्मियों में संक्रमण अस्पताल की गलती के कारण फैला है. संक्रमण को रोकने के लिये स्वास्थ्य विभाग ने कई तरह के प्रबंध किए हैं. विभाग बारीकी से निगरानी बनाए हुए है और चिंता की कोई बात नहीं है.’’

राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि राज्य में अब तक 32 कोविड-19 पॉजिटिव मामले सामने आये हैं, सभी का स्वास्थ्य स्थिर है और अभी तक किसी की मौत नहीं हुई है.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार 13 पॉजिटिव मरीजों के सीधे संपर्क में कुल 124 लोग आए हैं, 95 विदेश से वापस लौटे लोगों सहित 2,507 लोग इंफल्यूजा जैसी बीमारी से पीड़ित पाए गए हैं.

123 लोग घरों में पृथक रह रहे हैं, 38 लोग अस्पताल के पृथक वार्ड में हैं जबकि 130 लोगों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा विकसित किये गये सुविधा केन्द्र में पृथक रखा गया है.

भीलवाड़ा के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुश्ताक खान ने बताया कि तीन चरणों में जांच होनी है. पहले चरण की जांच दो दिन में पूरी कर ली जाएगी. स्थानीय प्रशासन ने उन क्षेत्रों को चिन्हित कर लिया है, जहां दूसरे चरण की जांच की जानी है.

अजमेर जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने हाल ही में भीलवाड़ा जाने वाले लोगों से सूचना देने की अपील करते हुए उन्हें नजदीकी सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र में जांच कराने को कहा है.

राज्य में कोविड-19 के पॉजिटिव पाए गये 32 मरीजों में से 13 भीलवाडा में, 6 जयपुर में, 4 झुंझुनूं में, 3 जोधपुर में 2 प्रतापगढ में और एक-एक पाली और सीकर में पाया गया है. इसके अलावा इतावली दंपत्ति में भी कोरोनावायरस पॉजिटिव पाया गया था. अधिकारिक संख्या के अनुसार 89 लोगो की जांच रिपोर्ट आनी बाकी है.

राजस्थान सरकार ने पूरे राज्य में 31 मार्च तक लॉकडाउन किया है और सामुदायिक स्तर पर वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए निषेधाज्ञा लागू की है.