Honey Trap: महिला ने दोस्ती की. प्यार का नाटक किया. संबंध बनाये और फिर रेप (Rape) किये जाने का मुकदमा दर्ज करा दिया. इसके बाद महिला ने निपटारा करने के नाम पर 40 लाख रुपए मांगने शुरू कर दिए. कॉल डिटेल और विस्तृत जाँच कर पुलिस (Rajasthan Police) ने इस पूरे मामले का खुलासा किया तो सबके होश उड़ गए. मामला राजस्थान के सवाई माधोपुर का है. राजस्थान पुलिस ने महिला को अरेस्ट कर लिया है. सिर्फ महिला ही नहीं, बल्कि लोगों को इसी तरह फंसाने के लिए पूरा गिरोह काम कर रहा था. पुलिस ने महिला के साथ ही उसके साथियों को भी पकड़ लिया है.Also Read - अब 'अप्राकृतिक' नहीं कहलाएगी किसी भी तरह की यौन गतिविधि, MBBS के सिलेबस से भी हटाया गया ये शब्द

महिला पर आरोप है कि उसने रेलवे में टिकट कलेक्टर पीड़ित को कथित तौर प्रेम जाल में फंसा कर शारीरिक संबंध बनाए और दुष्कर्म का मामला दर्ज करवा कर 40 लाख रुपये को मांग की. सवाई माधोपुर के पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार ने बताया कि थाना बटोदा पुलिस ने आरोपी महिला प्रकाशी मीणा को हनीट्रैप के मामले में गिरफ्तार किया है. गिरोह के बाकी सदस्यों की तलाश की जा रही है. एसपी ने बताया कि संबंध में थाना बटोदा में एक मामला दर्ज कराया गया था. प्राथमिकी के अनुसार प्रकाशी मीना नामक एक महिला ने रेलवे में टिकट कलेक्टर मुनिराज से मोबाइल कॉल के जरिए दोस्त की. फिर शारीरिक संबंध बनाकर उससे 40 लाख रुपये की मांग की. पैसे नहीं देने पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करवाया गया. Also Read - कमरे में अपनी बेटी के साथ इस हाल में था CRPF जवान, देखकर पत्नी के उड़े होश, फिर...

मुकदमा दर्ज कर जांच की गई तो साक्ष्यों व कॉल डिटेल विश्लेषण से मामला हनीट्रैप का पाया गया और इसके पीछे महिला सहित पांच-छह सदस्यों के गिरोह की भूमिका सामने आई. पुलिस टीम ने आरोपी महिला प्रकाशी मीणा को गिरफ्तार कर लिया. उसके साथियों की तलाश की जा रही है. उन्होंने बताया कि इस गिरोह के लोग सरकारी कर्मचारी या व्यापारी की आर्थिक स्थिति, आचरण व मोबाइल नंबरों की जानकारी लेकर महिला प्रकाशी से कॉल करवा मित्रता करवाते. उसके बाद अपने शिकार को एकांत में मिलने के लिये बुलाकर शारीरिक संबंध बनाये जाते. Also Read - भारत ने पाकिस्तान से दो सिख व्यापारियों की हत्या पर प्रतिक्रिया दी, कहा- दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो

शारीरिक संबंध बनाने के दौरान पहले से तय योजना के तहत महिला के अन्य सहयोगी मौके पर आकर व्यक्ति से मारपीट करते और उसे मुकदमे में फंसाने का भय दिखाकर तत्काल रुपये देने की मांग करते. रुपये नहीं देने पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करवाकर राजीनामा करने व मुकदमा वापस लेने के लिए रुपयों की मांग करते. गिरफ्तार महिला प्रकाशी इससे पहले बैंककर्मी, व्यापारी व अन्य के विरुद्ध दुष्कर्म के मुकदमे दर्ज करवा चुकी है. इन मामलों में प्रकाशी व उसके साथी कई बार जेल जा चुके हैं.