जयपुर: देश में अघोषित आपातकाल होने के आरोपों को खारिज करते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कांग्रेस ने 43 साल पूर्व देश में जो आपातकाल लगाया था वह लोकतंत्र पर एक धब्बा है और सरकार इस बारे में युवाओं में जागरूकता के लिए पाठ्यक्रमों में बदलाव करेगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज में वर्ष 1975 में लगाए गए आपातकाल को कोई भुला नहीं सकता है. वह आपातकाल लोकतंत्र पर धब्बा है और यह लोगों की स्वतंत्रता समाप्त करने का प्रयास था. Also Read - जवाहर नवोदय विद्यालयों में अगले सत्र से 5,000 अतिरिक्त सीटें बढ़ेंगी

बता दें बीजेपी आपातकाल पर काला दिवस बनाकर कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला. पार्टी के लगभग सभी सीनियर नेताओं ने कांग्रेस के खिलाफ बड़ा मोर्चा ही खोल दिया है. बाता दें कि आपातकाल की 43वीं बरसी पर राजस्थान की प्रदेश भाजपा की ओर से आयोजित ‘काला दिवस’ के अवसर पर जावड़ेकर ने मंगलवार को जयपुर में पहुंचे और यहां मीडियाकर्मियों से भी बातचीत की. Also Read - असलम शेर खान से कृष्णा पुनिया तक, वो भारतीय एथलीट जिन्होंने राजनीति में मनवाया लोहा

लोगों को सच्चाई का पता चले
जावड़ेकर ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय आपातकाल की सचाई को स्कूल और कॉलेज के पाठयक्रमों में शामिल करके उजागर करेगा. देश ने आपातकाल के दौरान जो देखा है उसकी सचाई लोगों को पता लगनी चाहिए. इसके लिए सरकार युवा पीढ़ी में जागरूकता के लिए पाठयक्रम में आवश्यक बदलाव करेगी.
बीजेपी छोड़ने वाले तिवाड़ी की आरोपों पर दी सफाई
मानव संसाधन मंत्री जावड़ेकर ने यह कहना गलत होगा कि पिछले चार सालों से देश में कोई अघोषित आपातकाल है. केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा कि बीजेपी से त्यागपत्र देने वाले विधायक घनश्याम तिवाड़ी के पिछले चार सालों से देश और प्रदेश में अघोषित आपातकाल के आरोप निराधार हैं. तिवाड़ी के बयान पर पूछे गए प्रश्न का जवाब देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा कि सरकारी तंत्र में पूरी तरह से स्वतंत्रता है.

महंगाई कांग्रेस की प्रथा रही
जावड़ेकर ने देश में महंगाई के प्रश्न पर कहा कि कांग्रेस सरकारों के समय महंगाई बढ़ने की प्रथा रही है, लेकिन भाजपा शासन में महंगाई कम होती है. भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्ति के प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि शीघ्र घोषणा की जाएगी. (इनपुट-एजेंसी)