नई दिल्ली: देश में अपनी जाति के इतर दूसरी जाति और धर्म में शादी करना कानूनी रूप से मान्य है, लेकिन आज भी अपनी जाति और धर्म से बाहर शादी करने वाले लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है. कई मामलों में इस तरह के कपल की हत्या तक कर दी जाती है. कई मामलों में परिवार वाले ही अपनी बेटी और बेटे के दुश्मन बन जाते हैं और इज्जत के नाम पर उनकी हत्या कर देते हैं. धर्म और जाति की वर्जनाओं को तोड़कर शादी करने वाले कपल्स को राजस्थान पुलिस सहायता देगी.

राजस्थान पुलिस ने इसके लिए वॉट्सऐप नंबर जारी किया है. इस नंबर पर कॉल या वॉट्सऐप कर इंटर कास्ट या इंटरफेथ शादी करने वाला कोई भी कपल पुलिस से सुरक्षा मांग सकता है. इस संबंध में बुधवार को सर्कुलर जारी किया गया. यह सर्कुलर डीसीपी और एसपी को जारी किया गया है. इसमें कहा गया है कि उन बालिग कपल को सुरक्षा मुहैया कराई जाए जो अपनी मर्जी से शादी करना चाहते हैं. इस संबंध में राजस्थान हाईकोर्ट ने आदेश जारी किए थे.

सर्कुलर के अनुसार पुलिस उन कपल को सुरक्षा मुहैया कराएगी जो अपनी मर्जी से अपनी जाति और धर्म के बाहर शादी करते हैं. अगर इन कपल्स को अपनी जाति या सामाज से किसी तरह का खतरा है या उन्हें धमकी मिल रही है तो पुलिस उनकी मदद करेगी. इसके लिए सीनियर महिला पुलिस अधिकारी की अगुवाई में नोडल पुलिस अफसर की नियुक्ति हर थाने में की जाएगी. जिले में सब-इस्पेक्टर से ऊपर के पुलिस अफसर को जिले का नोडल अधिकारी बनाया जाएगा.

सर्कुलर के अनुसार जो हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है वह 8764871150 है. निर्देशों के अनुसार राज्य, जिला स्तर, स्टेट लेवल और पुलिस थानों में हेल्पलाइन नंबर शुरू हो चुका है. इंटर कास्ट और इंटरफेथ मैरिज करने वाले कपल अगर किसी से असुरक्षा महसूस कर रहे हों तो वे इन नंबर पर कॉल्स या वॉट्सऐप कर सकते है. किसी भी स्तर पर शिकायत मिलने के बाद उसे संबंधित थाने में भेज दिया जाएगा. पुलिस घरवालों को बैठाकर मामले को सुलझाने की कोशिश करेगी इसके लिए सोसाइटी के प्रभावी लोगों के अलावा अन्य संस्थाओं की भी मदद ली जाएगी.