जयपुर: राजस्थान के सरकारी विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों के तहत महीने के प्रत्येक तीसरे शनिवार को संत महात्माओं के प्रवचन आयोजित किए जाएंगे.शिक्षा विभाग की ओर से हाल ही में वर्ष 2018-19 के लिये जारी शैक्षणिक कैलेंडर के अनुसार सभी स्कूलों कें प्रत्येक शनिवार को पांच मिनट के लिए ‘बाल सभा’ आयोजित करने के साथ साथ महीने के प्रत्येक पहले शनिवार को महापुरुषों का जीवन परिचय छात्रों को सुनाया जाएगा. हर महीने दूसरे शनिवार को प्रेरणा देने वाली कहानियां और नैतिक मूल्यों के बारे में छात्रों को बताया जाएगा.

प्रत्येक तीसरे शनिवार को राष्ट्रीय महत्व के समसामयिक समाचारों की समीक्षा एवं किसी महापुरुष अथवा स्थानीय संत महात्माओं के प्रवचन और चौथे शनिवार को एक क्विज का आयोजन होगा. पांचवें शनिवार को नैतिक मूल्यों पर नाटक के साथ साथ राष्ट्रभक्ति गीत गायन का आयोजन किया जाएगा. कलैंडर के अनुसार बाल सभा से पृथक रूप से सुबह की प्रार्थना सभा के बाद जीरो आवर के दौरान इन गतिविधियों के आयोजन पर विचार किया जा सकता है.

माध्यमिक शिक्षा विभाग के निदेशक की ओर से प्रदेश के सभी सरकारी विद्यालयों में गतिविधियों के संचालन की सुनिश्चिता तय करने के लिए सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को वर्ष 2018-19 का शैक्षणिक कलैंडर जारी किया गया है.

दिव्यांग विश्वविद्यालय अगले सत्र से
राजस्थान में दिव्यांग विश्वविद्यालय अगले सत्र से शुरू हो सकता है. विश्वविद्यालय शुरू करवाने के लिए नियम बन चुके हैं जो अनुमोदन के लिए कैबिनेट के समक्ष पेश किए जायेंगे. विश्वविद्यालय के लिए जामडोली में अस्थायी भवन लेने के प्रयास जारी हैं.गौरतलब है कि दिव्यांग विश्वविद्यालय यदि अगले सत्र में आरंभ होता है तो यह देश का प्रथम दिव्यांग विश्वविद्यालय होगा.