नई दिल्ली. पुलवामा हमले के बाद भारत के कड़े जवाब से बौखलाया पाकिस्तान, अब भी सीमा पर ओछी हरकतें कर रहा है. सोमवार को भी पाकिस्तान ने राजस्थान के बीकानेर में नाल सेक्टर के पास अपना जासूसी ड्रोन भेजा. लेकिन भारतीय सुरक्षा तंत्र के आगे पाकिस्तान के इस कदम को एक बार फिर पुख्ता जवाब देकर शांत करा दिया गया. भारतीय वायुसेना के सुखोई-30 फाइटर प्लेन ने इस पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया. भारत-पाक सीमा पर लगे रडारों द्वारा इस ड्रोन की मौजूदगी की खबर मिलते ही सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गईं और कुछ ही पलों में दुश्मन देश के इस जासूसी ड्रोन को नेस्तनाबूत कर दिया गया. आपको बता दें कि इससे पहले बीते 26 फरवरी को बालाकोट में Air Strike के बाद कच्छ सीमा के पास भी सुरक्षाबलों ने एक पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया था.

मिराज-सुखोई की गूंजः भारत के Air Strike से हवा में उड़ा पाकिस्तान का एयर-डिफेंस

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सीमा पर लगे रडार में जैसे ही भारतीय हवाई क्षेत्र में पाकिस्तानी ड्रोन द्वारा घुसपैठ का पता चला, तुरंत ही भारतीय वायुसेना सतर्क हो गई. सूत्रों के अनुसार, ड्रोन की मौजूदगी का पता करने के लिए तुरंत सुखोई-30 फाइटर प्लेन को भेजा गया. सुरक्षाबलों के सूत्रों ने बताया कि भारतीय हवाई क्षेत्र में सोमवार की सुबह करीब साढ़े 11 बजे के आसपास इस पाकिस्तानी ड्रोन की मौजूदगी का पता चला था. लेकिन सुखोई-30 विमान ने इस ड्रोन को मार गिराया. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) के बालाकोट में स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर वायुसेना द्वारा बमबारी किए जाने के बाद यह दूसरा मौका है जब पाकिस्तान द्वारा मानव-रहित ड्रोन से भारतीय सीमा में जासूसी की घटना दर्ज की गई है.

इससे पहले गुजरात के कच्छ जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बीते 26 फरवरी को पाकिस्तान के एक ड्रोन को मार गिराया गया था. ड्रोन का मलबा कच्छ के अब्दासा तालुका के ननघाटाद गांव के पास दिखा था. उस दिन सूत्रों ने बताया था कि सुबह करीब छह बजे आवाज सुनने के बाद गांव वाले मौके पर पहुंचे और ड्रोन का मलबा देखा. यह पूछने पर कि क्या भारतीय सशस्त्र बलों ने पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया है, पुलिस के एक अधिकारी ने पहचान गुप्त रखने की शर्त पर बताया था कि ‘‘ऐसी एक घटना हुई है, हम उसकी जांच कर रहे हैं.’’ अधिकारी ने हालांकि और जानकारी देने से इंकार कर दिया.