जयपुर: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के उस बयान की आलोचना की है जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर पार्टी 2019 का चुनाव जीत गयी तो उसे अगले 50 साल तक कोई हरा नहीं सकेगा. गहलोत के अनुसार शाह का यह बयान भाजपा की ‘फासीवादी सोच. को दिखाता है. गहलोत ने शाह के इस बयान के बारे में पूछे जाने पर यहां संवाददाताओं से कहा कि ‘शाह ने कहा कि अगला चुनाव जीत जाएंगे तो 50 साल तक राज हम ही करेंगे. यही तो आरोप लगाते हैं हम उन पर.’ कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि उनका (भाजपा का) लोकतंत्र पर विश्वास नहीं है. उन्होंने कहा, ‘उनका (भाजपा का) लोकतंत्र पर विश्वास नहीं है. एक बार और जीत जाओ फिर इस संविधान की धज्जियां उड़ा दो, संविधान को बदल दो. लगे ऐसा कि लोगों ने वोट दिया है… जैसा चीन में होता है, रूस में होता है… और आप पचास साल तक राज करो.’ Also Read - मास्क पहनने को अनिवार्य बनाने के लिए कानून बनाएगी राजस्थान सरकार, विधानसभा में विधेयक लाया जाएगा

Also Read - जो चुनाव हारा उस पर मेहरबान हुए लोग, चंदा करके गिफ्ट किए 21 लाख रुपए

गहलोत ने कहा कि शाह ने अपने इस बयान से पार्टी की फासीवादी सोच प्रकट कर दी है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘यह मेरा बहुत गंभीर आरोप है कि भाजपा अध्यक्ष ने अपनी पार्टी व आरएसएस की सोच को जाने अनजाने में उजागर कर दिया है.’ उल्लेखनीय है कि शाह ने हाल ही में दिल्ली में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद कल यहां पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था कि ‘अगर 2019 का चुनाव भाजपा का कार्यकर्ता जीत ले तो पचास साल तक पंचायत से संसद तक भाजपा को कोई हरा नहीं सकेगा.’ उन्होंने ये भी कहा था कि पहलू खान की मौत और अवार्ड वापसी के बाद भी बीजेपी जीत रही है. Also Read - जयपुर-दिल्ली के बीच डबल डेकर ट्रेन 10 अक्‍टूबर से चलेगी, ये है टाइमिंग

Bharat Bandh: अखिलेश का बड़ा हमला, ‘जनता महंगाई से परेशान, भाजपा अहंकार में चूर’

गहलोत ने कहा कि देश के सामने इस समय कई बड़े मुद्दे हैं जिनमें से एक राफेल विमान सौदा भी है. इस मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरूण शौरी व यशवंत सिन्हा तथा वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण द्वारा आरोप लगाए जाने का जिक्र करते हुए गहलोत ने कहा, ‘ये तो इनके अपने आदमी हैं, शौरी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे, सिन्हा वित्त व विदेश मंत्री रहे.. इनका आरोप लगाना मायने रखता है. एक जवाब नहीं आ रहा. न तो प्रधानमंत्री की तरफ से न अमित शाह की ओर से.’