जयपुर: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने किसानों को कर्जमाफी व महिला सुरक्षा को लेकर बुधवार को फिर राज्य की वसुंधरा राजे सरकार पर निशाना साधा. पायलट ने लगातार ट्वीट कर कहा कि राज्य सरकार ने किसानों का 50 हजार रुपए तक का कर्ज माफ करने की घोषणा तो की लेकिन वास्तव में यह कर्ज माफ नहीं हुआ. पायलट ने कहा कि बैंकों ने पहले तो कुछ किसानों का 10-12,000 रुपए का कर्ज माफ किया, लेकिन बाद में वे उन्हें डिफाल्टर बताकर रबी की फसल के लिए कृषि ऋण नहीं दे रहे हैं. सरकारी लापरवाही का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है.’ Also Read - स्मृति ईरानी ने कहा- कांग्रेस देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में है, वो यही कर सकती है

Also Read - मोदी सरकार का किसानों के लिए कर्ज माफ़ी का बड़ा प्लान, 1 लाख करोड़ के लोन होंगे माफ़!

बाल विवाह नहीं अपनाया तो पंचायत ने लगाया 16 लाख का जुर्माना, CA युवती ने थाने में खाया जहर Also Read - कांग्रेस का दावा- 'स्पीक अप इंडिया' सबसे बड़ा डिजिटल आंदोलन, 57 लाख लोग LIVE आए, 10 करोड़ लोगों ने देखे VIDEO

पायलट ने राज्य सरकार पर एक और आरोप बच्चियों की सुरक्षा को लेकर लगाया है. पायलट ने कहा कि सरकार मासूमों को सुरक्षा देने में पूरी तरह विफल है. एक रिपोर्ट के अनुसार कोटा में हर 6 दिन में किसी मासूम के साथ छेड़छाड़ या दुष्कर्म होता है. यह हाल पूरे प्रदेश का है.’

विधानसभा चुनाव 2018: वसुंधरा राजे राजस्थान की इस सीट से होंगीं उम्मीदवार, सम्मलेन में किया ऐलान

पायलट ने केंद्र सरकार व भारतीय रिजर्व बैंक के बीच जारी खींचतान पर कहा है कि ‘भाजपा सरकार धारा सात के जरिए केंद्रीय बैंक पर नियंत्रण करने की कोशिश कर रही है. इससे न सिर्फ आरबीआई की स्वायत्तता मजाक बनकर रह जाएगी बल्कि यह ऐसा काला कदम होगा जिससे सरकार को अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने की अनुमति मिलगी. बता दें कि राजस्थान की सियासत में आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा था. इस साल के अंत तक वहां विधानसभा चुनाव होने हैं.