जयपुर: राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र से ही चुनाव लड़ेगी. उन्होंने रविवार को झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र के भाजपा बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन में इसकी घोषणा की. राजे ने भाजपा बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि झालावाड़ से मेरा 30 साल पुराना अटूट रिश्ता है, जो जब तक सांस है तब तक रहेगा. यह रिश्ता मुख्यमंत्री और कार्यकर्ताओं के बीच का नहीं, ये रिश्ता मां-बेटे, मां-बेटी, बहन-भाई के बीच का है. उन्होंने कहा कि यहां के लोगों ने उन्हें बहुत प्यार दिया. मैंने भी जो मुझसे बन पड़ा पूरे मन से झालावाड़-बारां के लिए किया. इसीलिए 30 साल पहले के झालावाड़-बारां और आज के झालावाड़-बारां में विकास का बहुत बड़ा अंतर साफ दिखाई देता है. Also Read - मुश्किल में राजस्थान: कोरोना से एक और मौत, अब तक 8 मरे, 500 के करीब पहुंची संक्रमितों की संख्या

करणी सेना का ‘मिशन 59’: SC आरक्षित सीटों पर समता आंदोलन के प्रत्याशियों का करेगी समर्थन Also Read - Rajasthan Covid-19 Update: राजस्थान के चार जिलों में मिले कुल 42 नए मामले, हॉटस्पॉट भीलवाड़ा से दो दिन में कोई नया मामला नहीं

वसुंधरा राजे ने कहा कि ये चुनाव मैं नहीं, झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र का हर व्यक्ति लड़ेगा. यहां उम्मीदवार मैं नहीं, सब कार्यकर्ता है. राजे ने कहा कि चुनाव के दौरान मेरा ध्यान 200 विधान सभा सीटों पर रहेगा. इनमें से 100 सीटों पर विशेष ध्यान देना है. मुख्यमंत्री ने कहा कि हम पूर्ण बहुमत के साथ राजस्थान में ऐतिहासिक जीत दर्ज कराएंगे. उन्होंने कहा कि आज भाजपा कार्यकता ने ये स्थिति पैदा कर दी है कि प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार राहुल गांधी को विधानसभा वार सभाएं करनी पड़ रही है. उन्हें पता नहीं कि झालावाड़-बारां से मेरा अटूट बंधन है. Also Read - कई चरणों में लॉकडाउन हटाने की तैयारी में राजस्थान, मुख्यमंत्री ने दिए संकेत

राजस्थान में कम्युनिस्ट पार्टी सहित 6 दल आए साथ, लोकतांत्रिक मोर्चा ने अमराराम को चुना नेता

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव 2008 में विषम परिस्थितियों के बावजूद हम 78 सीटें जीते थे, 4 सीटे जनता दल (यू) और भाजपा के बागियों ने जीती थी. अगर 8 सीटें और जीत लेते, तो हमारी सरकार बन जाती, क्योंकि उस वक़्त कांग्रेस भी 96 सीटें ही ला पाई थी, जो बहुमत के लिए नाकाफ़ी थी. यदि उस वक़्त हम 8 सीटें और जीत लेते, तो कांग्रेस के पास 88 सीटें ही रह जाती. इन आठ सीटों में 6 तो झालावाड़-बारां की ही रह गई, लेकिन अब की बार ऐसी ग़लती नहीं होगी. इस बार हम सरकार बनाएंगे.