जयपुर. राजस्थान के अजमेर जिले में अलग-अलग व्यक्तियों के साथ स्थानीय युवतियों के आपत्तिजनक स्थिति में पाए जाने के तीन वीडियो क्लिप वायरल हो गए. लेकिन न तो किसी युवती और न ही उनके परिजनों ने इस संबंध में शिकायत की. वाट्सएप पर इन वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस ने खुद इस मामले में पहल करते हुए अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. पुलिस ने संदेह जताया है कि युवतियों को ब्लैकमेल करने के लिए वीडियो क्लिप का इस्तेमाल किया गया है. पुलिस का कहना है कि ब्लैकमेल की आशंका से ही इन युवतियों के परिजनों ने थाने में शिकायत नहीं की है. पुलिस अधिकारियों के अनुसार संभवतः ये युवतियां ग्रामीण इलाकों की रहने वाली हैं और अजमेर के किसी शिक्षण संस्थान में पढ़ती हैं. Also Read - अजमेर जिले में धार्मिक कार्यक्रम के लिए 100 से ज्‍यादा लोगों का जमावड़ा, पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा

वीडियो में दिख रहे व्यक्तियों की पहचान का प्रयास
अजमेर के इन युवतियों के मामले को लेकर पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू कर दी है. पुलिस ने कहा कि पीड़ित युवतियों और उनके परिजनों की तरफ से इस संबंध में कोई शिकायत नहीं मिलने पर पुलिस ने स्वत: संज्ञान लिया है. अजमेर पुलिस की महानिरीक्षक मालिनी श्रीवास्तव ने कहा, ‘रामगंज थानाधिकारी ने कल मामला दर्ज किया और वीडियो क्लिप में दिखाई दे रहे व्यक्तियों की पहचान के लिए प्रयास किये जा रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘कोई आगे आकर शिकायत दर्ज नहीं करा रहा है, इसलिए हमने मामला दर्ज किया है. किसी व्यक्ति ने वीडियो क्लिप वायरल कर दिया. जैसे ही पुलिस के संज्ञान में मामला आया तो हमने अपराधी के खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया और हम उस पर कार्रवाई करेंगे.’ Also Read - VIDEO: अजमेर में गलियां बनी नदी, पानी में बहते हुए नजर आया ये शख्‍स

वीडियो के साथ तस्वीरें भी हुईं वायरल
अजमेर की आईजी मालिनी श्रीवास्तव ने बताया कि वीडियो क्लिप के साथ कुछ तस्वीरें भी वायरल हुई हैं. पुलिस सभी वीडियो और तस्वीरों की गहनता से जांच कर रही है. इससे पहले अजमेर के पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि अज्ञात लोगों ने तीन वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर अपलोड किए और ‘वाट्सएप’ पर वायरल कर दिए. एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि वीडियो में दिख रहीं युवतियां स्थानीय गांवों की हैं और अजमेर के शैक्षणिक संस्थान में पढ़ाई कर रही हैं. पीड़ित युवतियां और उनके परिजन सामने नहीं आना चाहते. रामगंज थाना प्रभारी अजयकांत द्वारा दर्ज प्राथमिकी में अज्ञात लोगों के खिलाफ भादंवि की धारा 292 , महिला (प्रतिषेध) अश्लील प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 3 एवं 4/6 और आईटी अधिनियम की धारा 64- ए के तहत मामला दर्ज किया गया है. पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन किया है. Also Read - अजमेर रैली: भाषण के अंत में आई आंधी, पीएम मोदी बोले- विजय की आंधी चल पड़ी

(इनपुट – एजेंसी)