कोटा: पूर्व प्रधानमंत्री एवं स्‍वर्गीय पंडित जवाहर लाल नेहरू के बारे में सोशल मीडिया पर पोस्ट करने को लेकर गिरफ्तार की गई एक्‍ट्रेस पायल रोहतगी को राजस्थान के बूंदी की एक अदालत से जमानत मिल गई है. बता दें कि राजस्‍थान पुलिस ने पायल को 15 दिसंबर को पूर्व पीएम पंडित नेहरू व गांधी परिवार के खिलाफ सोशल मीडिया पर अपमानजनक पोस्‍ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया था.

राजस्थान के कोटा की एक अदालत ने इस मामले में सोमवार को पायल रोहतगी की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी और उन्हें 24 दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. लेकिन आज मंगलवार को कोर्ट ने जमानत दे दी है. कोर्ट ने पायल को 25-25 हजार रुपए के दो मुचलके भरने के लिए कहा है.

रोहतगी के वकील भूपेंद्र सहाय सक्सेना ने सोमवार को जिला न्यायाधीश के समक्ष अदालत में जमानत अर्जी दी थी. जिला न्यायाधीश मंगलवार को छु्ट्टी पर थे, इसलिए यह आवेदन अतिरिक्त जिला न्यायाधीश के पास भेजा गया

पायल को सोमवार अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया था. दो दिन पहले पायल को अहमदाबाद में उनके घर से हिरासत में लेकर बूंदी लाया गया था. उन्हें रविवार रात यानि 15 दिसंबर को औपचारिक रूप से गिरफ्तार किया गया था.
बता दें कि बिगबॉस की पूर्व प्रतिस्पर्धी ने छह सितंबर और 21 सितंबर को फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर समेत सोशल मीडिया साइटों पर मोतीलाल नेहरू, जवाहरलाल नेहरू, इंदिया गांधी और इस परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट की थी.

प्रदेश युवा कांग्रेस के महासचिव और बूंदी निवासी चार्मेश शर्मा ने आपत्तिजनक सामग्री की प्रतियों के साथ शिकायत दर्ज कराई थी. उसके बाद अभिनेत्री के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. कांग्रेस सदस्य ने एक्‍ट्रेस पर आरोप लगाया था कि आपतिजनक सामग्री से देश की छवि को नुकसान पहुंचती है, उससे अश्लीलता, धार्मिक घृणा फैलती है तथा महिला की छवि खराब होती है।

बूंदी पुलिस ने 10 अक्टूबर को रोहतगी के खिलाफ सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धाराओं- 66 और 67 के तहत मामला दर्ज किया था. उन्हें इस महीने के प्रारंभ में नोटिस जारी किया था और इस संबंध में जवाब मांगा गया था.