जयपुर: राजस्थान में बीजेपी ने विवादास्पद बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले अपने विधायक ज्ञानदेव आहूजा को इस बार टिकट नहीं दी है, जबकि हाल ही में पार्टी में आए चार लोगों को प्रत्याशी बनाया गया है, जिनमें अभिनेष महर्षि तथा गुरदीप शाहपीणी शामिल हैं. भाजपा ने 31 प्रत्याशियों की दूसरी सूची बुधवार को जारी की. इसमें उसने 14 मौजूदा विधायकों और तीन मंत्रियों को टिकट नहीं दिया है. Also Read - लॉकडाउन को फेल बताने पर राहुल गांधी पर बीजेपी का पलटवार: झूठ नहीं फैलाएं, दुनिया के आंकड़े देखें

Also Read - भाजपा शासित राज्यों ने कोविड-19 के की लड़ाई में आत्मसमर्पण कर दिया है : कांग्रेस

राजस्‍थान विधानसभा चुनाव: बीजेपी ने जारी की 31 उम्‍मीदवारों की दूसरी सूची Also Read - सत्ता के लालची लोग महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने की लगातार कोशिश कर रहे हैं : कांग्रेस

प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा ने 31 प्रत्याशियों की दूसरी सूची बुधवार को जारी की. इसमें उसने 14 मौजूदा विधायकों और तीन मंत्रियों को टिकट नहीं दिया है. टिकट से वंचित मंत्रियों में बाबूलाल वर्मा, धन सिंह रावत और राजकुमार रिणवा शामिल हैं.

राजस्‍थान में सीएम होगा कौन? इलेक्‍शन से पहले ही कांग्रेस में मुख्‍यमंत्री पद की दौड़ तेज हुई

भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए दूसरी सूची जारी की। pic.twitter.com/xIyRFXxtGC

पार्टी की इस सूची में एक बार फिर कोई मुस्लिम चेहरा नहीं है. हालांकि उसने अपने हिंदू चेहरा माने जाने वाले ज्ञानदेव आहूजा (रामगढ़) को भी टिकट नहीं दी है. कांग्रेस को मुसलमानों की पार्टी बताने वाले राज्यमंत्री धन सिंह रावत (बांसवाड़ा) को भी प्रत्याशी नहीं बनाया गया है.

राजस्‍थान में बीजेपी को बड़ा झटका, अपने भाई को हराने वाले एमपी ने थामा कांग्रेस का हाथ

वसुंधरा राजे सरकार के जिस प्रमुख मंत्री की टिकट को लेकर अब भी संशय कायम है, वह हैं नागौर से युनुस खान. पार्टी ने इस सीट से अभी प्रत्याशी की घोषणा दूसरी सूची में भी नहीं की है. इसी तरह जयपुर राजघराने से जुड़़ी दिया कुमारी (सवाईमाधोपुर) के टिकट पर भी संशय बना हुआ है.

राजस्थान की चुनावी जंग में अशोक गहलोत और सचिन पायलट भी उतरेंगे, दोनों लड़ेंगे चुनाव

जहां तक पैराशूट प्रत्याशियों का सवाल है तो इस सूची में पार्टी ने बसपा से आए अभिनेष महर्षि को रतनगढ़ से, कांग्रेस से आए अशोक शर्मा को राजाखेड़ा से और महेश प्रताप सिंह को नाथद्वारा से प्रत्याशी बनाया है. दो बार निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले और हाल ही में भाजपा में आए गुरदीप शाहपीणी संगरिया से पार्टी के प्रत्याशी होंगे.

पार्टी की पहली सूची में 131 नाम थे. पार्टी अपनी दो सूचियों में अब तक कुल मिलाकर 162 प्रत्याशियों के नाम घोषित कर चुकी है. इसमें उसने चार मंत्रियों सहित 40 मौजूदा विधायकों को टिकट नहीं दिया है जबकि कुल 19 महिलाएं अब तक पार्टी की सूची में स्थान पा सकी हैं. राज्य की कुल 200 विधानसभा सीटों के लिए 7 दिसंबर को मतदान होना है. मतगणना 11 दिसंबर को होगी.