जयपुर: राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटों पर कुल 2,294 प्रत्याशी चुनावी समर में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. राज्य के 4.7 करोड़ से अधिक मतदाता 7 दिसंबर को इनके राजनीतिक भाग्य का फैसला करेंगे. राज्य में नामांकन पत्र भर चुके उम्मीदवारों के लिए नाम वापसी का गुरुवार अंतिम दिन था. निर्वाचन विभाग के अनुसार नामांकन पत्रों की जांच व नाम वापसी के बाद 2,294 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं.

राहुल गांधी की फटकार के बाद सीपी जोशी ने खेद जताया

आगामी विधानसभा चुनावों के लिए मैदान में उतरे कुल उम्मीदवारों में 189 महिला उम्मीदवार भी शामिल हैं. नामांकन प्रक्रिया के दौरान 3,293 लोगों ने नामांकन पर्चे दाखिल किए थे. जांच प्रक्रिया के बाद 2,873 प्रत्याशी मैदान में बचे. इनमें से 579 ने अपने नामांकन वापस ले लिए जिसके बाद 2,294 प्रत्याशी मैदान में बचे हैं. जिनके भाग्य का फैसला जनता के हाथों में है. ये तो आने वाला समय ही बताएगा कि ऊंट किस करवट बैठेगा लेकिन रिपोर्ट्स की मानें तो वर्तमान सरकार के लिए इन चुनावों में मुकाबला थोड़ा मुश्किल दिख रहा है.

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018: भाजपा में बगावत, वसुंधरा सरकार के 4 मंत्री सहित 11 निलंबित

जहां तक राजनीतिक दलों का सवाल है तो सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी राज्य की सभी 200 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. कांग्रेस ने 195 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं जबकि पांच सीटें उसने गठबंधन की सहयोगी दलों को दी हैं. बसपा भी लगभग 190 सीटों पर चुनाव लड़ रही है तो आम आदमी पार्टी (आप) ने 143 सीटों पर, हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने 58 सीटों पर, घनश्याम तिवाड़ी की भारत वाहिनी पार्टी ने 63 सीटों पर माकपा ने 28 और भाकपा ने 16 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं. अभिनव राजस्थान पार्टी भी 61 सीटों पर लड़ रही है. (इनपुट एजेंसी)