जयपुर: राजस्थान में मतदान के लिए कुछ ही दिन बाकी रह गए हैं और पार्टियों ने चुनाव प्रचार के लिए अपने सियासी दांवपेच तेज कर दिए हैं. राज्य में प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस के सोशल मीडिया पर जुबानी हमले आक्रामक होते नजर आ रहे हैं. सोशल मीडिया पर कांग्रेस ने रविवार को अपने घोषणापत्र के 45 बिंदुओं को वीडियो के माध्यम से शेयर किया. कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम ने हैशटैग ’45 समाधान, विजयी भव राजस्थान’ का उपयोग कर अपने पोस्टर ट्वीट्स में घोषणापत्र के हर बिंदु पर बनी लघु वीडियो को लोगों तक पहुंचाया. कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि कांग्रेस का जन घोषणापत्र लोगों की आशाओं और उम्मीदों को दर्शाता है, जिसमें अंकित 45 बिंदु प्रदेश की समस्याओं के 45 समाधान हैं, जिसे पार्टी ने लोगों से मिले सुझावों के मद्देनजर तैयार किया है.

राजस्थान चुनावः भाजपा प्रत्याशी की हैट्रिक पर ब्रेक लगाने मैदान में उतरा प्रदेश का सबसे बुजुर्ग उम्मीदवार

कांग्रेस के नेताओं ने भी अपने-अपने अकाउंट से इस बाबत वीडियो शेयर की और जवाब में लोगों की भी सकारात्मक प्रतिक्रिया व समर्थन लेने में कांग्रेस काफी हद तक कामयाब रही. गौरतलब है कि कांग्रेस ने हाल ही में 29 नवंबर को अपना घोषणापत्र जारी किया था, जिसे पार्टी ने ‘जन घोषणापत्र’ नाम दिया है. घोषणापत्र के लुभावने वादों में लड़कियों को मुफ्त शिक्षा, बुजुर्ग किसानों को पेंशन, किसानों का कर्ज माफ, राइट टू हेल्थ कानून जैसे बड़े ऐलान शामिल हैं.

बीजेपी ने चुनाव को जातियों से जोड़ा, नहीं कर रही मुद्दा आधारित राजनीति: अशोक गहलोत

कांग्रेस डिजिटल घोषणा पत्र प्रचार के इस प्रयोग को छत्तीसगढ़ चुनाव प्रचार में भी इस्तेमाल कर चुकी है और इसकी पहुंच और रिस्पांस को देखते हुए पार्टी ने राजस्थान में भी इसे जारी रखा है. बहरहाल, सोशल मीडिया पर कांग्रेस को अपने ऑनलाइन अभियानों में लोगों से पहले भी अच्छा खासा रिस्पांस मिल चुका है, वहीं भाजपा जिसे डिजिटल रणनीति का महारथी माना जाता है, फिलहाल राजस्थान में उसे कांग्रेस की रणनीति से बढ़त बनाने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है. अब सोशल मीडिया के रुझान हकीकत में तब्दील होंगे या नहीं, यह 11 दिसंबर को परिणाम आने पर ही पता चल पाएगा.