नई दिल्ली: राजस्थान में 199 सीटों पर वोटिंग जारी है. वहीं कई जगहों से ईवीएम के खराब होने की शिकायतें मिल रही हैं. बीकानेर के मतदान केंद्र संख्‍या 172 पर वोट डालने पहुंचे केंद्रीय राज्‍य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल को ईवीएम खराब होने के कारण परेशानी का सामना करना पड़ा. वह पिछले घंटों से मतदान केंद्र के बाहर खड़े होकर ईवीएम ठीक होने का इंतजार करते रहे इसके बाद उन्होंने वोटिंग की.  तकनीकी खामी आने के कारण वोटिंग नहीं पा रही थी.

वहीं जयपुर के सिविल लाइंस के बूथ नंबर 249 और 142 पर ईवीएम खराब होने की शिकायत मिली. सांगानेर, बस्‍सी, किशनपोल, मालवीय नगर, झोटवाड़ा और विद्याधर नगर में भी ईवीएम के खराब होने की सूचना है. राजस्‍थान के जालोर में भी पोलिंग बूथ संख्‍या 253 और अहोर के बूथ संख्‍या 254 पर भी ईवीएम खराबी की शिकायत सामने आई है.

ईवीएम के साथ-साथ पूरे राज्य में वीवीपैट मशीनों का उपयोग पहली बार हो रहा है. मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने बताया कि राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए पूरी तैयारी की गई है. मतदान निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से करवाने का जिम्मा 1,44,941 जवानों पर होगा जिनमें केंद्रीय सुरक्षा बलों की 640 कंपनियां शामिल हैं. राज्य में कुल 387 नाके और चैक पोस्ट लगाए गए हैं.

उन्होंने बताया कि 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए कुल 4,74,37,761 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. इनमें 2,47,22,365 पुरुष तथा 2,27,15,396 महिला मतदाता है. इनमें से पहली बार मतदान कर रहे युवा मतदाताओं की संख्या 20,20,156 हैं. राज्य के 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से कुल 2,274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. इंडियन नेशनल कांग्रेस से 194, भारतीय जनता पार्टी से 199 उम्मीदवार, बहुजन समाज पार्टी से 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से 01, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से 16 एवं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से 28 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं जबकि 817 गैर मान्यता प्राप्त दलों के प्रत्याशी एवं 830 निर्दलीय उम्मीदवार हैं.

राजस्थान में विधानसभा की कुल सीटों की संख्या 200 है लेकिन एक सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया है. कुमार ने बताया कि अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का 29 नवम्बर को निधन हो गया है. वहां का चुनाव स्थगित कर दिया गया है. राज्य के चार लाख से ज्यादा दिव्यांगजनों के लिए विशेष सुविधा की गयी है. उनको मतदान के लिए घर से लाने की व्यवस्था की गयी है. 259 मतदान केंद्रों का जिम्मा महिलाओं के हवाले होगा जहां मतदान दलकर्मी, सुरक्षाकर्मी इत्यादि सभी महिलाएं होंगी. इस बीच विभाग को सी-विजिल एप से अब तक 3,784 से अधिक शिकायतें मिलीं जिनमें से 3,098 शिकायतें सही पाई गई है.