जयपुर: श्री राजपूत करणी सेना आगामी विधानसभा चुनाव में अनुसूचित जाति (एससी) वर्ग के लिए आरक्षित राज्य की 59 सीटों पर समता आंदोलन के प्रत्याशियों का समर्थन करेगी. समता आंदोलन समिति ने इस फैसले का स्वागत किया है. श्री राजपूत करणी सेना के संस्थापक लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा कि समता आंदोलन समिति ‘मिशन 59’ के तहत राज्य की एससी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी. हम ‘मिशन 59’ का समर्थन करने जा रहे हैं. श्री राजपूत करणी सेना उनके प्रत्याशियों का सहयोग व समर्थन करेगी.’ राज्य की 200 में से बाकी 141 सीटों के बारे में उन्होंने कहा कि करणी सेना नवंबर के पहले पखवाड़े में अपना रुख तय करेगी.

राजस्थान में कम्युनिस्ट पार्टी सहित 6 दल आए साथ, लोकतांत्रिक मोर्चा ने अमराराम को चुना नेता

उन्होंने कहा, ‘आज सबसे ज्यादा जरूरत अगर किसी बात की है तो वह है आरक्षित को संरक्षण, उपेक्षित को आरक्षण. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत तो इसकी बात करते हैं लेकिन भाजपा कोई फैसला नहीं कर पा रही है. धारा 370 का मामला अदालत में है. राम मंदिर का मामला अदालत में है. एससी एसटी कानून का मामला जो अदालत में था उसे कोर्ट से बाहर जाकर तय करने का जो पाप किया गया है उसी के विरुद्ध हम चाह रहे हैं कि कोई फैसला किया जाए.’ उन्होंने कहा कि श्री राजपूत करणी सेना खुद राजनीतिक तौर पर कहीं भागीदारी नहीं करेगी बल्कि वह बराबर आंदोलनरत रहे और अब राजनीतिक लड़ाई लडने वालों का समर्थन करेगी.’

करणी सेना का ऐलान दुष्कर्मी का सिर काटने वाले को देंगे 25 लाख का ईनाम

संगठन ने शनिवार को यहां एक सम्मेलन रखा था जिसमें अपेक्षा अनुरूप लोग नहीं आए. इस बारे में पूछे जाने पर कालवी ने कहा कि ‘भीड़ ही अगर कोई कसौटी है तो एक बार फिर हम तौल लेंगे.’ वहीं समता आंदोलन समिति के अध्यक्ष पराशर नारायण शर्मा ने श्री राजपूत करणी सेना के इस फैसले का स्वागत करते हुए इसे देश की राजनीति को बदलने वाला कदम करार दिया है. उन्होंने बताया कि पार्टी ने ‘मिशन 59’ के तहत एससी के लिए आरक्षित 59 में से 20 सीटों के लिए प्रत्याशी तय कर लिए हैं जबकि बाकी सीटों पर भी जल्द ही फैसला कर लिया जाएगा.