कोटा: राजस्थान में झालरापाटन विधानसभा सीट पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ मैदान में उतरे कांग्रेस प्रत्याशी मानवेंद्र सिंह की पत्नी चित्रा सिंह का कहना है कि झालरापाटन सीट पर दोनों उम्मीदवारों के बीच कड़ी टक्कर है, लेकिन उन्होंने विश्वास जताया कि मानवेंद्र सिंह ही वहां से जीत हासिल करेंगे. वह अपने पति के साथ उस विधानसभा क्षेत्र के शहरी और ग्रामीण इलाकों में बड़े पैमाने पर प्रचार अभियान चला रही हैं. वसुंधरा राजे पिछली तीन बार से झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्त्व कर रही हैं.

चित्रा सिंह ने कहा कि वह हर दरवाजे पर जा रही हैं और महिलाओं से मिल रही हैं, जिनसे वह मानवेंद्र सिंह के पक्ष में वोट डालकर बीजेपी सरकार के खिलाफ अपनी नाराजगी को जाहिर करने की अपील कर रही हैं. मानवेंद्र सिंह बीजेपी के दिग्गज नेता जसवंत सिंह के पुत्र हैं. उन्होंने कहा कि झालावाड़ जिले के झालरापाटन में संघर्ष काफी कड़ा होगा, लेकिन उन्होंने विश्वास जताया कि उनके पति इस सीट पर जीत हासिल करेंगे क्योंकि उनका मानना है कि लोग मां और बेटा (राजे और उनके बेटे दुष्यंत सिंह) के खिलाफ गुस्से से भरे हुए हैं.

पीएम मोदी का हमला, कांग्रेस मुझसे मुकाबला नहीं कर सकती इसलिए मेरी मां को गाली दे रही है

चित्रा सिंह ने कहा कि लोग बदलाव चाहते हैं क्योंकि क्षेत्र की भूमि काफी उपजाऊ है और यह स्थान उद्योगों की स्थापना के लिए अनुकूल है, लेकिन न ही किसानों को अपनी फसलों का उचित दाम मिला है और न ही उद्योग स्थापित किए गए. उन्होंने दावा किया कि पूरे क्षेत्र को उपेक्षित छोड़ दिया गया है और कहा कि यदि कांग्रेस सत्ता में आई, तो वे उद्योग स्थापित कर और कृषि उद्योग को बढ़ावा देकर युवाओं के लिए रोजगार पैदा करेंगे.

मिजोरम चुनाव: बीजेपी का आज तक नहीं खुला है खाता, 1 समीकरण से 10 साल से जीत रही है कांग्रेस

चित्रा ने कहा कि पांच दिन पहले जब हम यहां पहली बार आए थे, तब हम भी एक नया चेहरा थे, लेकिन लोग हमारा बहुत गर्मजोशी के साथ स्वागत कर रहे हैं. मानवेंद्र सिंह हाल ही में बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गये थे. उन्होंने कहा कि लोग राजे के खिलाफ अपने गुस्से को वोट में तब्दील करें. मानवेंद्र सिंह ने कहा, ‘मुझे प्रचार अभियान के दौरान लोगों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल रही है. वे राज्य सरकार के खिलाफ काफी गुस्से में हैं.’

पिता को ‘भंवरी देवी’ केस में हुई है जेल, बेटी कांग्रेस के टिकट पर मैदान में

मानवेंद्र सिंह ने कहा था कि वसुंधरा के खिलाफ चुनौती उन्हें स्वीकार है, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि वह मुख्यमंत्री या किसी दूसरे पद के दावेदार नहीं हैं. कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद मीडिया से मुखातिब मानवेंद्र ने कहा, ‘राहुल गांधी और केंद्रीय चुनाव समिति ने मुझ पर विश्वास जताया है. मैं उनका आभारी हूं. यह एक चुनौती है जिसे स्वीकार करता हूं.’

उन्होंने यह भी कहा,‘यह पहले से तय नहीं था. पार्टी की ओर से अचानक से मुझसे कहा गया. मेरी इच्छा लोकसभा चुनाव लड़ने की थी और वह आज भी है. लेकिन फिलहाल प़ार्टी ने यह जिम्मेदारी दी है जिसे मैं पूरी तरह निभाऊंगा.’ यह पूछे जाने पर कि क्या इस उम्मीदवारी के बाद वह भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में शामिल हो गए हैं तो मानवेंद्र सिंह ने कहा, मैं किसी पद का दावेदार नहीं हूं. मेरी इच्छा किसी पद की नहीं है.

(इनपुट-भाषा)