नई दिल्ली: राजस्थान के शहरी विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वह मतदाताओं से कहते दिख रहे हैं कि यदि उन्हें वोट नहीं दिया तो वह आत्महत्या कर लेंगे. हालांकि, मंत्री ने बाद में इसे मजाक में कही गई बात करार दिया. कृपलानी का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है.

निम्बाहेडा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार कृपलानी ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान मतदाताओं से उन्हें वोट देने की अपील की. वीडियो में वह निम्बाहेडा के ग्रामीण इलाके में कुछ लोगों को संबोधित करने के दौरान यह कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि  ‘अगर आप मुझे नहीं जिताओगे तो मैं खुदकुशी कर लूंगा जहर खा कर.’ मंत्री से इस बारे में जब उनकी प्रतिक्रिया लेने के लिये संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि मजाकिया लहजे में ऐसा कहा था.

राहुल गांधी की फटकार के बाद सीपी जोशी ने खेद जताया

कृपलानी ने कहा कि यह चीज मैंने मजाक और हल्के मूड में बोली थी लेकिन किसी ने इसका वीडियो बना लिया. तीन बार विधायक रह चुके कृपलानी ने 2013 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर 45.09 प्रतिशत मतों के साथ अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के उम्मीदवार उदयलाल आंजना को 3,370 मतों से हराकर विजय हासिल की थी. आंजना को 43.38 प्रतिशत वोट मिले थे. इस बार भी यहां कृपलानी व आंजना चुनाव लड़ रहे हैं.

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018: भाजपा में बगावत, वसुंधरा सरकार के 4 मंत्री सहित 11 निलंबित

राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटों पर कुल 2,294 प्रत्याशी चुनावी समर में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. राज्य के 4.7 करोड़ से अधिक मतदाता 7 दिसंबर को इनके राजनीतिक भाग्य का फैसला करेंगे. राज्य में नामांकन पत्र भर चुके उम्मीदवारों के लिए नाम वापसी का गुरुवार अंतिम दिन था. निर्वाचन विभाग के अनुसार नामांकन पत्रों की जांच व नाम वापसी के बाद 2,294 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं.

Rajasthan Assembly Election 2018: PM मोदी 25 नवंबर तो राहुल गांधी 26 को पहुंचेंगे राजस्थान, एक ही दिन होंगीं सभाएं

आगामी विधानसभा चुनावों के लिए मैदान में उतरे कुल उम्मीदवारों में 189 महिला उम्मीदवार भी शामिल हैं. नामांकन प्रक्रिया के दौरान 3,293 लोगों ने नामांकन पर्चे दाखिल किए थे. जांच प्रक्रिया के बाद 2,873 प्रत्याशी मैदान में बचे. इनमें से 579 ने अपने नामांकन वापस ले लिए जिसके बाद 2,294 प्रत्याशी मैदान में बचे हैं. जिनके भाग्य का फैसला जनता के हाथों में है. ये तो आने वाला समय ही बताएगा कि ऊंट किस करवट बैठेगा लेकिन रिपोर्ट्स की मानें तो वर्तमान सरकार के लिए इन चुनावों में मुकाबला थोड़ा मुश्किल दिख रहा है.