जयपुर: राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए सुबह शुरू मतगणना के शुरुआती रुझान में बीजेपी और कांग्रेस में अब तक कड़ी टक्कर दिख रही है. यहां कांग्रेस करीब 100 व बीजेपी 79 सीटों पर आगे है. आंकड़ा लगातार आगे पीछे हो रहा है. वहीं, सीएम वसुंधरा राजे के कई प्रमुख मंत्री पीछे चल रहे हैं जिनमें गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया भी शामिल हैं. जबकि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी झालरापाटन सीट पर अपने प्रतिद्वंद्वी मानवेंद्र सिंह से आगे चल रही हैं.

Assembly Elections 2018 Result Live Update: रुझानों में मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस बहुमत से फिसली

पीछे चल रहे प्रमुख मंत्रियों में समाज कल्याण मंत्री अरूण चतुर्वेदी सिविल लाइंस सीट पर, चिकित्सा मंत्री कालीचरण सर्राफ मालवीयनगर सीट पर, सिंचाई मंत्री डॉक्टर रामप्रताप हनुमानगढ़ सीट पर, कृषि मंत्री प्रभु लाल सैनी अंता सीट पर, गौपालन मंत्री ओटाराम देवासी सिरोही सीट पर, यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी निंबाहेड़ा सीट पर, यातायात मंत्री युनुस खान टोंक पर, सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक डेगाना सीट पर और गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया उदयपुर सीट पर पीछे चल रहे हैं.

Chhattisgarh Elections Results 2018, Live: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को बड़ी बढ़त, 60 सीटों पर आगे, बीजेपी काफी पीछे छूटी

वहीं, शुरुआती रुझान में विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल शाहपुरा सीट पर आगे हैं और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी झालरापाटन सीट पर अपने प्रतिद्वंद्वी मानवेंद्र सिंह से आगे चल रही हैं.

बता दें कि राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटें हैं. लेकिन इस बार एक प्रत्याशी के निधन की वजह से उस सीट पर चुनाव को टाल दिया गया है. ऐसे में 199 सीटों के लिए वोट पड़े हैं, जिनके परिणाम शाम तक आ जाएंगे. इस बार 3117 प्रत्याशी मैदान में हैं. इनमें बीजेपी के 199, कांग्रेस के 195, बसपा के 198, भारत वाहिनी पार्टी के 75 और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने 68 प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं.

Rajasthan Assembly Election Results 2018: बीजेपी-कांग्रेस में टक्कर, वोटों की गिनती जारी

साल 2013 की बात करें तो राजस्थान में बीजेपी ने एक तरफा जीत दर्ज की थी और उसे 163 सीटें मिली थीं. कांग्रेस को सिर्फ 21 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था. राष्ट्रीय जनता पार्टी को 4, बहुजन समाजवादी पार्टी को 3 और 9 निर्दलीय जीत कर आए थे. इस बार एग्जिट पोल ने चुनावा को काफी रोमांचक बना दिया है. सभी पार्टियां खुद के जीत का दावा कर रही हैं. वहीं, छोटी पार्टियां खुद को किंगमेकर के रूप में साबित करने की कोशिश कर रही हैं.