जयपुर: राजस्थान में सन्निकट विधानसभा चुनाव को देखते हुए वसुंधरा राजे सरकार जयपुर में अपनी तीन महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर काम कर रही है. इन तीन परियोजनाओं में से द्रव्यवती नदी योजना का उद्घाटन आगामी मंगलवार को होने वाला है, जबकि रिंग रोड परियोजना और मेट्रो ट्रेन फेज- 1बी परियोजना के उद्घाटन की तारीख अभी तय नहीं हुई है. शहरी विकास एवं आवासीय मंत्री श्रीचंद कृपलानी ने बताया कि जयपुर शहर की खूबसूरती में चार चांद लगाने वाली द्रव्यवती नदी परियोजना का उद्घाटन गांधी जयंती के उपलक्ष्य पर दो अक्तूबर को किया जाएगा. Also Read - अजमेर जिले में धार्मिक कार्यक्रम के लिए 100 से ज्‍यादा लोगों का जमावड़ा, पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा

कांग्रेस का मुस्लिमों से मोहभंग? राजस्थान चुनाव में इस बार कम उम्मीदवारों को देगी टिकट Also Read - राजस्थान में कोरोना संक्रमण के पांच नए मामले, राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 59 हुई 

उन्होंने बताया कि इस परियोजना के तहत द्रव्यवती नदी में हर 300 मीटर पर 100 चैक डैम बनाए गए है. सीकर रोड, रामचंद्रपुरा डैम और लैंडस्केप पार्क सहित कई जगह व्युइंग प्वाइंट बने हैं, जहां से शहर और नदी की खूबसूरती का नजारा लिया जा सकेगा. नदी के किनारे दो ट्रैक बनाए हैं. इनमें से एक पैदल घूमने वालों के लिए है तो दूसरा साइकिल चलाने वालों के लिए है. 47 किलोमीटर लंबी नदी के 15-16 किलोमीटर में निर्माण कार्य पूरा हो गया है और 30 किलोमीटर में छोटा मोटा का अभी बाकी है, जिसे पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं. दो अक्तूबर को शिप्रापथ से परियोजना का उद्घाटन किया जाएगा. Also Read - मनीष सिसोदिया का बयान- दिल्ली सीमा पर हरियाणा, पंजाब और राजस्थान से पहुंचे लोग

राजस्थान में 4.74 करोड़ से अधिक मतदाता, 7.91 लाख वोटर्स के नाम हटाए और 67 लाख बढ़े

उन्होंने बताया कि सरकार का प्रयास है कि प्रदेश में विधानसभा चुनावों के लिये लगने वाली आचार संहिता से पूर्व मेट्रो ट्रेन के फेज-1 बी और रिंग रोड का उद्घटान हो जाए. इसके लिए दोनों परियोजनाओं का तेजी से काम चल रहा है. रिंग रोड परियोजना हिंदुस्तान की उन परियोजनाओं में से एक है जिसमें सबसे तेज गति से काम चल रहा है. जयपुर विकास प्राधिकरण के निदेशक (अभियांत्रिकी) नारायण चंद्र माथुर ने बताया कि अजमेर रोड से आगरा रोड को जोडने वाली 47 किलोमीटर लंबी रिंग रोड का निर्माण कार्य एनएचएआई द्वारा किया जा रहा है और लगभग 21 किलोमीटर का कार्य पूरा कर लिया गया है.