जयपुर: परिवारवाद की राजनीति के लिए कांग्रेस पर आरोप लगाने वाली भाजपा ने विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची में पार्टी के कई नेताओं के परिजनों को टिकट देकर पुरस्कृत किया गया है. पार्टी नेताओं के अनुसार, विद्रोह से बचने के लिए संगठन प्रत्येक कदम सावधानीपूर्वक उठा रहा है. यदि ऐसा नहीं किया गया तो आगामी विधानसभा चुनावों में बगावती सुर पार्टी को नुकसान पहुंचा सकते हैं. भाजपा की ओर से रविवार रात जारी 131 उम्मीदवारों की सूची में पार्टी ने 85 मौजूदा विधायकों को टिकट देने के साथ-साथ उन प्रमुख नेताओं के परिजनों को टिकट देने का ध्यान रखा है जिनके टिकट काटे गए हैं.Also Read - गद्दार कहने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिग्विजय सिंह को दिया करारा जवाब, याद दिलाया 'ओसामा जी...' बयान

Also Read - अखिलेश यादव ने कहा- योगी आदित्यनाथ 24 घंटे काम करते हैं, फिर भी महंगाई-बेरोजगारी बढ़ी, Dial 100 तो...

एमपी: बुंदेलखंड में बीजेपी की राह आसान नहीं, बीएसपी और एसपी से मिल रही कड़ी चुनौती Also Read - शराबबंदी सही है या नहीं... महिलाओं से पूछने निकलेंगे नीतीश कुमार, जल्दी ही यात्रा करेंगे

भाजपा की ओर जारी पहली सूची में प्रमुख भाजपा नेताओं के पुत्रों, पौत्रों और पुत्र वधु को शामिल किया गया है. भगवा पार्टी ने ऐसे नेताओं के परिजनों का भी ध्यान रखा जिनकी खराब स्वास्थ्य के कारण मौत हो गई थी. भाजपा ने नसीराबाद से सांसद रहे दिवंगत सांवरलाल जाट के पुत्र राम स्वरूप लांबा, डीग-कुम्हेर विधानसभा क्षेत्र से पूर्व मंत्री दिगम्बर सिंह के पुत्र शैलेश सिंह को उम्मीदवार बनाया है. इससे पूर्व पार्टी ने लोकसभा उपचुनाव लांबा को टिकट दिया था. पार्टी ने एक बार फिर उन्हें विधानसभा चुनाव मैदान में उतारा है. लोकसभा उप चुनाव में कांग्रेस के रघु शर्मा ने लांबा को 80,000 मतों से पराजित किया था.

राजस्‍थान: मंत्री ने दिया विधायक और बीजेपी की प्राथमिक सदस्‍यता से इस्‍तीफा

इसी तरह बीकानेर जिले के कोलायत विधानसभा क्षेत्र से पार्टी ने वरिष्ठ नेता देवी सिंह भाटी की पुत्र वधु पूनम कंवर, भरतपुर जिले के बयाना विधानसभा क्षेत्र से रिषी बंसल की पत्नी रितू को चुनाव मैदान में उतारा है. पार्टी ने प्रतापगढ़ से पूर्व मंत्री नंदलाल मीणा के पुत्र हेमंत मीणा, पूर्व विधायक गुरजंट सिंह के पौत्र गुरवीर सिंह बरार, जोधपुर के पूर्व विधायक कैलाश भंसाली के भतीजे अतुल भंसाली और बांसवाडा से पूर्व विधायक कुंजीलाल के पुत्र राजेन्द्र मीणा को उम्मीदवार बनाया है. पार्टी नेताओं के अनुसार, बगावत रोकने के लिये उचित कदम उठाये गए हैं. 2008 के विधानसभा चुनावों में पार्टी को इसी तरह के विरोध के कारण 15 सीटों का नुकसान हुआ था जिसके चलते पार्टी सत्ता से बाहर हो गई थी. पार्टी को केवल 78 सीटें मिली थीं, हालांकि कांग्रेस भी जादुई आंकडे़ को नहीं छू पाई थी.