Rajasthan Cabinet Expansion: राजस्थान में आने वाले महीनों में एक और कैबिनेट फेरबदल हो सकता है. कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने अपने मुख्यालय में हुई एक पार्टी की बैठक में इस संभावना को लेकर संकेत दिए हैं. यह बैठक मंगलवार को हुई थी. पार्टी सूत्रों के अनुसार, बैठक में राजस्थान के सीएम ने कहा, ‘कई विधायक, जो कठिन समय के दौरान कांग्रेस के साथ खड़े रहे उन्हें हाल ही में नवंबर में किए गए कैबिनेट विस्तार (Rajasthan cabinet Expansion) और फेरबदल में शामिल नहीं किया जा सका. हालांकि, हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके निर्वाचन क्षेत्रों में काम में कोई बाधा न आए. पार्टी आलाकमान ने अनुमति दी तो उन्हें एक और फेरबदल के दौरान कैबिनेट में शामिल किया जाएगा.’Also Read - UP Election 2022: आगरा में 6 उम्मीदवारों ने चुनाव के लिये नामांकन किया, एक ट्रांसजेंडर भी मैदान में

मुख्यमंत्री 12 दिसंबर को बढ़ती महंगाई के खिलाफ दिल्ली में होने वाले धरना प्रदर्शन पर चर्चा के लिए एक बैठक के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और राजस्थान के पार्टी प्रभारी अजय माकन भी मौजूद थे. यहां यह उल्लेख करना आवश्यक है कि कांग्रेस में शामिल हुए 6 बसपा विधायकों में से 5 और पार्टी के अंदर विद्रोह के दौरान कांग्रेस का समर्थन करने वाले 13 निर्दलीय विधायकों को कैबिनेट फेरबदल में शामिल नहीं किया जा सका है. Also Read - Zee Opinion Poll: उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार बनती है तो क्या आप बनेंगे मुख्यमंत्री? जानें हरीश रावत का जवाब...

बसपा के छह पूर्व विधायकों में से एक राजेंद्र गुडा ने अपनी टीम के पांच सदस्यों को मंत्री पद नहीं दिए जाने पर पहले ही नाराजगी व्यक्त कर दी है. इसी तरह एक अन्य निर्दलीय रामकेश मीणा भी इसी मुद्दे पर मुखर हुए हैं. उन्हें सीएम का सलाहकार नियुक्त किया गया है, लेकिन, गहलोत ने हाल ही में स्पष्ट किया है कि सलाहकार पद कैबिनेट रैंक के समान मान्य नहीं होंगे. Also Read - Janta Ka Mood: उत्तराखंड में किस जाति के मतदाता किस पार्टी की तरफ, मुस्लिम मतदाताओं का मत किसे?

(इनपुट: IANS)