जयपुर। राजस्थान के श्रम विभाग के आयुक्त ने कर्मचारियों के पहनावे को लेकर आदेश जारी किया है. उन्होंने कर्मचारियों से ऑफिस में गरिमामय पहनावा पहनकर आने को कहा है. आयुक्त ने एक परिपत्र जारी कर विभाग के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों को शर्ट और पैंट में आने को कहा है. विभाग के अधिकारियों,कर्मचारियों को जींस और टीशर्ट में नहीं आने को कहा गया है क्योंकि ऐसे कपड़े पहनना कार्यालय की गरिमा के खिलाफ है. श्रम आयुक्त गिरिराज सिंह कुशवाहा ने बीती 21 जून को इस आशय का परिपत्र जारी किया था, उसके बाद कर्मचारी यूनियन ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है.Also Read - दुनिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय ध्वज 'तिरंगा' पाक बॉर्डर के पास प्रदर्शित किया गया

Also Read - Rajasthan: अलवर की 15 साल की लड़की के साथ निर्भया जैसी बर्बरता? निजी अंगों में गंभीर चोट, ढाई घंटे चला ऑपरेशन

विभाग की गरिमा के खिलाफ बताया Also Read - School Closed: दिल्‍ली, हरियाणा से यूपी तक, कोरोना के डर से किन-किन राज्‍यों ने बंद किए स्‍कूल, जानें

विभाग की ओर से जारी परिपत्र मे कहा गया है कि विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को अक्सर जींस और टी शर्ट, और अन्य अशिष्ट पहनावे में देखा गया, जो विभाग की गरिमा के विरूद्व है. इसलिये सभी अधिकारियों और कर्मचारियों से विभाग की गरिमा बनाये रखने के लिये यह उम्मीद की जाती है कि कार्यालय में पैंट और शर्ट (गरिमा मय पोशाक) में आएं.

राजस्थान के कॉलेजों में लागू होगा ड्रेस कोड, कांग्रेस ने किया विरोध

आयुक्त ने इसे न्यायसंगत बताते हुए कहा कि यह कार्यालय की गरिमा बनाये रखने के लिये जरूरी था. श्रम आयुक्त गिरिराज सिंह कुशवाहा ने बताया कि यह कार्यालय की गरिमा और अनुशासन बनाये रखने के लिये किया गया है. उन्होंने इससे पूर्व भी इसी तरह के निर्देश दिये थे. उन्होंने बताया कि उन्हें परिपत्र के बारे में किसी भी कर्मचारी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

फेडेरेशन ने किया विरोध का ऐलान

ऑल राजस्थान एम्पलाइज फेडरेशन (यूनाइटेड) के अध्यक्ष गजेन्द्र सिंह ने बताया कि फेडरेशन इसका विरोध करेगी और आयुक्त को परिपत्र वापस लेने के लिये एक ज्ञापन दिया है. आयुक्त को सौंपे ज्ञापन में उन्होंने कहा जींस और टीशर्ट किस तरह से अशोभनीय और अपमानजनक पोशाक हो सकती है, इस तरह के कोई ऐसे सेवा नियम नहीं है, और हम इस अलोकतांत्रिक परिपत्र का विरोध करते है.

इससे पहले राज्य के शिक्षा विभाग ने सरकारी महाविद्यालयों को जारी परिपत्र में नए शिक्षा सत्र से विद्यार्थियों के लिए ड्रेस कोड और तय ड्रेस पहनकर नहीं आने वाले विद्यार्थियों को वापस लौटाने को कहा गया था. ड्रेस कोड में विद्यार्थियों के जींस और टी-शर्ट पहनने पर रोक लगाई गई है.

(भाषा इनपुट)