Rajasthan CoronaVirus Lockdown:राजस्थान में कोरोना वायरस कहर की वजह से लॉकडाउन की पाबंदियां लागू हैं. इस वजह से लोगों की परेशानी बढ़ गई है. नई गाइडलाइन की पूरी सख्ती से पालन करवाया जा रहा है. लेकिन जिनपर लॉकडाउन के पालन की जिम्मेदारी हो और उसकी जिंदगी की खास तारीख भी सामने हो तो वो क्या करे. कोरोना के एक तरफ भयावह आंकड़े सामने आ रहे हैं तो वहीं जिंदगी भी अपनी रफ्तार से ही चल रही है. इसकी एक बानगी राजस्थान के थाने में दिखी.Also Read - Rajasthan Marriage Guidelines: राजस्थान की शादियों में गेस्ट की संख्या को लेकर नई गाइडलाइंस जारी, जानें अपडेट

लॉकडाउन में थाने में हल्दी की रस्म की चर्चा Also Read - CoronaVirus Guidelines 2022: तीसरी लहर का खतरा बढ़ा! पूरे देश में 31जनवरी तक के लिए जारी किए गए सख्त निर्देश

राजस्थान के डूंगरपुर कोतवाली में तैनात एक महिला पुलिस कॉन्स्टेबल की शादी होने वाली है और उसकी हल्दी रस्म की कल से ही पूरे इलाके में चर्चा में है. दरअसल, डूंगरपुर कोतवाली में तैनात आशा नाम की महिला पुलिस कॉन्स्टेबल की हल्दी की रस्म थाने में संपन्न हुई. आशा की हल्दी की रस्म का समारोह थाना परिसर में ही इसलिए हुआ, क्योंकि राज्य में जगह-जगह लॉकडाउन की वजह से उन्हें इसके लिए छुट्टी नहीं मिल पाई है. Also Read - Lockdown In Maharshtra: ओमिक्रॉन के खतरे के बीच महाराष्ट्र में लगेगा Lockdown? स्वास्थ्य मंत्री ने दिया बड़ा बयान

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, महिला पुलिस कॉन्स्टेबल आशा की शादी होने वाली है, मगर कोरोना के बढ़ते केसों की वजह से उन्हें हल्दी की रस्म के लिए छुट्टी नहीं मिल पाई और यही वजह है कि हल्दी की रस्म थाने में ही निभाई गई. यहां थाने में अन्य महिला कॉन्स्टेबलों ने दुल्हन आशा को हल्दी लगाई और मंगल गीत गाकर रस्म को अच्छे से निभाया. लॉकडाउन में ऐसी तस्वीरें भी एक सुकून देती हैं.

पिछले साल लॉकडाउन की वजह से टल गई थी शादी, इस बार भी…
आशा का कहना है कि उनकी शादी पिछले साल मई में ही होने वाली थी, मगर देशव्यापी लॉकडाउन और कोरोना की वजह से स्थगित कर दी गई थी कि शादी अगले साल होगी. इस साल उनकी शादी पहले से ही 30 अप्रैल को तय थी, जो अब कुछ ही दिनों में होने वाली है. हालांकि, लॉकडाउन की वजह से अभी वह ड्यूटी पर ही हैं और यही वजह है कि जब हल्दी की रस्म के लिए उन्हें छुट्टी नहीं मिली तो थाने में ही इसका आयोजन किया गया.

आशा की हल्दी की रस्म में थाने की महिला स्टाफ ने परिवार के चाची-भाभी की भूमिका निभाई और शादी का मंगल गीत गाकर आशा को हल्दी लगाई गई. इस बीच आशा के लिए खुशी की बात ये है कि आशा को शादी के लिए छुट्टी मिल गई है.