जयपुर/ नई दिल्‍ली: राजस्‍थान में जारी कांग्रेस पार्टी के संकट पर आज मंगलवार को अशोक गहलोत कैबिनेट की बैठक विधानसभा का सत्र बुलाने के तीसरी बार प्रस्‍ताव भेजने के लिए जारी है, यह बैठक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर हो रही है. वहीं, बीएसपी ने इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट कोर्ट में एक अपील दायर की है. Also Read - ये क्या बोल गए केंद्रीय मंत्री...कोर्ट कह रही सबका टीकाकरण करो, अब वैक्सीन नहीं तो क्या हम फांसी लगा लें?

राजस्थान में अशोक गहलोत कैबिनेट की बैठक मंगलवार सुबह शुरू हुई. बैठक में विधानसभा सत्र बुलाने के संशोधित प्रस्ताव पर राज्यपाल द्वारा उठाए गए बिंदुओं पर चर्चा की जा रही है. मुख्यमंत्री निवास में कैबिनेट की बैठक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हो रही है. बता दें कि राज्य में जारी राजनीतिक रस्साकशी के बीच राज्यपाल कलराज मिश्र ने विधानसभा सत्र बुलाने का कैबिनेट का प्रस्ताव दुबारा वापस सरकार को भेजा है. सूत्रों के मुताबिक, कैबिनेट की बैठक में इन्हीं बिंदुओं पर चर्चा चल रही है. Also Read - कोर्ट की सुनवाई के सीधे प्रसारण पर गंभीरता से विचार कर रहा हूं: प्रधान न्यायाधीश

बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा, दुख की बात है कि गहलोत ने अपने मुख्यमंत्री बनने के बाद अपनी बदनियत से BSP को राजस्थान में गंभीर नुकसान पहुंचाने के लिए हमारे 6 विधायकों को असंवैधानिक तरीक से कांग्रेस में विलय करने की गैर कानूनी कार्यवाही की है और यही गलत काम उन्होंने पिछले कार्यकाल में भी किया था.

मायावती ने कहा, बसपा पहले भी अदालत जा सकती थी, लेकिन हम कांग्रेस पार्टी और सीएम अशोक गहलोत को सबक सिखाने के लिए समय की तलाश कर रहे थे. अब हमने कोर्ट जाने का फैसला किया है. हम इस मामले को अकेले नहीं होने देंगे. हम सुप्रीम कोर्ट भी जाएंगे.

मायावती ने कहा, कांग्रेस का ये कार्य संविधान की 10वीं अनुसूचि के खिलाफ है, इसलिए BSP के द्वारा 6 विधायकों को व्हिप जारी कर निर्देशित किया गया है कि ये सदन में कांग्रेस के खिलाफ ही मत डालेंगे. बसपा ने ये निर्णय कांग्रेस के द्वारा बार-बार धोखा दिए जाने के कारण ही लिया है.

मायावती ने कहा, हमने राजस्थान विधानसभा सत्र के दौरान होने वाली किसी भी कार्यवाही में कांग्रेस के खिलाफ वोट देने के लिए बसपा के प्रतीक पर राजस्थान विधानसभा के लिए चुने गए 6 विधायकों को कहा है. यदि वे ऐसा नहीं करते हैं, तो उनकी पार्टी की सदस्यता रद्द कर दी जाएगी.