जयपुर/ नई दिल्‍ली: राजस्‍थान में कांग्रेस के कुनबे में मची कलह के बीच मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में जुटे कांग्रेस विधायक रविवार को रात में जयपुर के 5 स्‍टार होटल में फिल्‍म शोले देखते हुए नजर आए. ऑडियो टेप को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच एक-दूसरे पर हमले जारी हैं. इस बीच जयपुर के फेयरमॉन्‍ट होटल में ठहराए गए कांग्रेस के विधायक चर्चित फिल्‍म शोले का लुत्‍फ उठाते नजर आए. Also Read - योगी सरकार से पहले सपा ने चौराहों पर लगवाए पोस्टर, तस्वीरों में दिखे यौन उत्पीड़न के आरोपी BJP नेता

वहीं, गुड़गांव के मानेसर के होटल व रिसॉर्ट में सचिन पायलट समर्थक विधायक ठहरे हुए हैं. राजस्‍थान सरकार को गिराने के आरोपों के समर्थन में वायरल ऑडियो विवाद के बीच आज राजस्‍थान हाईकोर्ट सचिन पायलट के समर्थक विधायकों की सदस्‍यता को लेकर आज कोई फैसला दे सकता है. Also Read - हिंदुस्तान के भविष्य के लिए कृषि कानूनों का विरोध करना होगा: राहुल गांधी

सचिन पायलट समेत कांग्रेस के 19 विधायकों की याचिका
बता दें कि आज सोमवार को राजस्थान हाईकोर्ट की कार्यवाही पर भी सरकार का फैसला निर्भर करेगा, जहां एक खंडपीठ सचिन पायलट और कांग्रेस के 18 अन्य विधायकों की याचिका पर सुनवाई करेगी. बता दें विधानसभाध्यक्ष द्वारा सचिन पायल ट ग्रुप के विधायकों को अयोग्यता का नोटिस जारी किया गया था, जिसके खिलाफ पायलट समर्थक विधायकों ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

सचिन पायलट खेमे की कोर्ट से उम्‍मीद
याचिका दायर करने वाले विधायक चाहते हैं कि अदालत विधानसभाध्यक्ष सी पी जोशी द्वारा कांग्रेस की एक शिकायत पर भेजे गए नोटिस को रद्द कर दे. कांग्रेस ने यह शिकायत की है कि ये विधायक, विधायक दल की दो बैठकों से दूर रहें, जबकि इसके लिए व्हिप जारी किया गया और उन्हें राज्य विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित कर देना चाहिए.

ये विधानसभा में आंकड़ों का खेल
राजस्‍थान की 200 सदस्यीय विधानसभा में असंतुष्ट विधायकों सहित कांग्रेस के 107 सदस्य हैं, जबकि बीजेपी के 72 विधायक हैं. यदि कांग्रेस के 19 बागी विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया जाता है, तो मौजूदा विधानसभा की मौजूदा वास्तविक क्षमता घट कर 181 हो जाएगी और बहुमत के लिए 91 विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी और गहलोत के लिए बहुमत साबित करना आसान हो जाएगा. इससे पहले, कांग्रेस ने कुछ निर्दलीय सहित अन्य छोटी पार्टियों के विधायकों का समर्थन होने का दावा भी किया था.

कांग्रेस ने की केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के इस्तीफे की मांग
बता दें कि पायलट ने मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व के खिलाफ बगावत कर दी, जिसके बाद उन्हें राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया गया था. कांग्रेस ने रविवार को केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार गिराने की साजिश से जुड़ी ऑडियो क्लिप में उनकी आवाज होने के कारण उनके पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं रह गया है.