Corona Virus in Rajasthan: कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच राजस्थान ने बुधवार को पड़ोसी राज्यों के साथ अपनी सीमाओं पर अतिरिक्त पाबंदी लगाते हुए आवागमन नियंत्रित कर दिया है. अब राजस्थान में आने व बाहर जाने के लिए प्रशासन से पहले ही अनुमति लेनी होगी. इसके साथ ही हर आने-जाने वालों को अपना पहचान पत्र भी दिखाना होगा. हर आने जाने की स्क्रीनिंग भी की जाएगी. राज्य की सीमाएं हरियाणा, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश से लगती हैं. Also Read - कोविड-19 की दवा विकसित करने के लिए 'ड्रग डिस्कवरी हैकाथन' शुरू, देश में पहली बार हो रही ऐसी पहल

पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था एमएल लाठर ने इस बारे में आदेश जारी किया है. इसमें कहा गया है कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर राज्य सरकार ने अंतरराज्यीय आवागमन को नियंत्रित करने का फैसला किया है. इसमें संबद्ध पुलिस आयुक्तों, रेंज महानिरीक्षकों व जिला पुलिस अधीक्षकों से कहा गया है कि पड़ोसी राज्यों से लगने वाले सड़क मार्गों पर तत्काल पुलिस चैक पोस्ट स्थापित की जाएं और अन्य राज्यों से व्यक्तियों को बिना अनुमति पत्र के नहीं आने दिया जाए. Also Read - राजस्थान में कोरोना: 421 मौतें, संक्रमितों की संख्या 18 हज़ार पार, जानें अपने इलाके का हाल

इस व्यवस्था के तहत बाहरी राज्य से उसी व्यक्ति को आने दिया जाएगा जिसने अपने राज्य से अनापत्ति प्रमाण पत्र लिया हो. इसी तरह राज्य से बाहर जाने के लिए भी सक्षम अधिकारी से पास या अनुमति पत्र लेना होगा. इसमें कहा गया है कि सक्षम अधिकारी इलाज के लिए जाने या परिवार में किसी की मृत्यु होने जैसी आपात परिस्थितियों में ही पास जारी करें. Also Read - यूपी में कोरोना का कहर, 24 घंटे में 21 और लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 23 हज़ार पार

अंतरराज्यीय मार्गों के साथ साथ हवाई अड्डे, रेलवे स्टेशन व बस अड्डों पर भी तत्काल चैक पोस्ट स्थापित करने को गया है. फिलहाल यह व्यवस्था आगामी सात दिन के लिए की गयी है. उल्लेखनीय है कि राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 11,368 हो गयी जबकि राज्य में इससे 256 लोगों की मौत हो चुकी है. इससे पहले छह मई को भी राज्य सरकार ने काफी दिनों तक अपनी अंतरराज्यीय सीमाएं एक तरह से सील कर दी थीं.