नई दिल्ली. राजस्थान चुनाव में अब जबकि कुछ ही दिन बाकी रह गए हैं, राजनीतिक दलों का प्रचार चरम पर पहुंचने लगा है. रविवार को मध्यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) चुनाव प्रचार के क्रम में जयपुर पहुंचे थे. यहां उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर जमकर हमले किए. खासकर धर्म और राजनीति के मुद्दे पर सिंधिया ने भाजपा को घेरने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि धर्म और राजनीति को एक साथ नहीं देखा जाना चाहिए. मगर भाजपा को इसकी आदत है. वह धर्म और राजनीति को मिलाकर हल्ला मचाती रहती है. राम मंदिर निर्माण को लेकर शोर मचाने वाली पार्टी को मंदिर निर्माण के बारे में सिंधिया परिवार से सीख लेनी चाहिए, जिसने कई राज्यों में मंदिर बनवाए हैं.

सोशल मीडिया पर भी चुनावी जंग, कांग्रेस ने चलाया ’45 समाधान, विजयी भव राजस्थान’ अभियान

कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जयपुर में मीडिया के साथ बातचीत करते हुए कहा, ‘धर्म में राजनीति या राजनीति में धर्म को नहीं मिलाया जाना चाहिए. जहां तक धर्म की बात है, यह किसी के निजी विचार या उसके जीवन से ताल्लुक रखता है. लेकिन भाजपा को यह आदत पड़ गई है कि वह हमेशा धर्म और राजनीति को लेकर शोर करती रहती है. भाजपा कहती है- कसम गीता की, मंदिर हम वहीं बनाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे. यही भाजपा की असलियत है’. सिंधिया ने मंदिर निर्माण को लेकर अपने परिवार के सामाजिक योगदान का जिक्र करते हुए भी भाजपा पर हमला किया. उन्होंने कहा, ‘अगर भाजपा को मंदिर निर्माण के बारे में सीखना है तो वह सिंधिया परिवार से सीख ले सकती है, जिसने 60 से ज्यादा मंदिरों का निर्माण कराया है. मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में सिंधिया परिवार ने कई मंदिर बनवाए हैं, लेकिन कहीं भी कोई कठिनाई नहीं आई.’

जिस लेखक की कहानी पढ़ता है पूरा राजस्थान, उसके शहर में बागी उम्मीदवारों ने कांग्रेस-भाजपा के छुड़ाए पसीने

सिंधिया ने कहा कि अगर आप कांग्रेस के चुनाव लड़ने की पूरी प्रक्रिया को गौर से देखें तो स्पष्ट हो जाएगा कि हमारी पार्टी साफ-सुथरे तरीके से चुनाव लड़ना जानती है. उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस ने पांचों राज्यों के विधानसभा चुनाव में साफ-सुथरी और पारदर्शी प्रक्रिया अपनाई है. कांग्रेस अपने सिद्धांतों के प्रति स्पष्ट रवैया रखती है. हमारा सिद्धांत है कि हम शांति और सहिष्णुता के साथ चुनाव लड़ते आए हैं. सहिष्णुता का माहौल खत्म करने का काम भाजपा का है. इस तरह की राजनीति को कांग्रेस पार्टी समाप्त कर देगी.

प्रत्याशी ने चुनाव प्रचार के लिए वीरेंद्र सहवाग के नाम का किया इस्तेमाल, क्रिकेटर ने खोल दी पोल

इससे पहले सिंधिया ने भाजपा नेता और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बयान पर भी सवाल उठाया. उन्होंने कहा, ‘हमारा उद्देश्य समाज के सभी वर्गों का विकास करना है. यह हमारी पार्टी की परंपरा रही है और यह आगे भी जारी रहेगी. जहां तक सुषमा स्वराज के बयान की बात है, उन्हें योगी आदित्यनाथ के बयानों पर गौर करना चाहिए, इससे उन्हें अपने सवालों के जवाब मिल जाएंगे.’ जयपुर में मीडिया के साथ बातचीत में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मध्यप्रदेश में मतदान के बाद ईवीएम की सुरक्षा में लेकर हुई गड़बड़ियों की ओर भी ध्यान दिलाया. उन्होंने कहा, ‘हमें रिपोर्ट मिली है कि स्ट्रांग रूम में 1 से 2 घंटे तक न तो सीसीटीवी काम कर रही थी और बिजली का कनेक्शन काट दिया गया था. सागर जिले में मतदान के 48 घंटों के बाद बिना नंबर वाली गाड़ी से ईवीएम स्ट्रांग रूम तक पहुंचाए गए. इस गाड़ी में 60 से 70 ईवीएम थी, इस पर कई तरह के सवाल खड़े होते हैं.’