नई दिल्ली: राजस्थान में कांग्रेस के पास एक विकट स्थिति खड़ी हो गई है. पार्टी की नाराजगी अब खुलकर सामने आ चुकी है. ऐसे में अशोक गहलोत ने अपने घर पर बैठक बुलाई है और सचिन पायलट पार्टी आलाकमान से मिलने के लिए दिल्ली पहुंचे हुए हैं. लेकिन इस बीच पूर्व कांग्रेस नेती व तत्कालीन भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट किया है. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा कि सचिन पायलट को भी आखिरकार दरकिनार कर दिया गया. Also Read - बिहार: कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय से 8 लाख रुपए बरामद, इनकम टैक्स अफसरों ने रणदीप सिंह सुरजेवाला से की पूछताछ

सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा- यह देख के दुख होता है कि मेरे पूर्व सहयोगी सचिन पायलट को भी राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा दरकिनार कर दिया गया. यह दिखाता है कि कांग्रेस पार्टी में प्रतिभा और क्षमता के लिए बहुत कम जगह है. बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह का आपसी मनमुटाव भी कुछ महीने पहले सबके सामने आ गया था. Also Read - वादा तेरा वादा.....बिहार चुनाव में लगी वादों की झड़ी, किस पार्टी ने जनता से क्या की है प्रॉमिस, जानिए

इसके बाद सिंधिया और उनके समर्थक 22 विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया और भाजपा का दामन थाम लिया. इसके बाद मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार बनाई गई. बता दें कि आज शिवराज कैबिनेट में सिंधिया समर्थक 2 में से 14 विधायकों को मंत्रीपद की शपथ दिलाई गई है. आज मंत्रियों के विभागों का बंटवारा भी किया जाएगा.