Rajasthan Panchayat Chunav Result Update: जिला परिषद चुनावों में सत्तारूढ़ कांग्रेस को उस समय बड़ा झटका लगा जब उसकी बागी रमा देवी, BJP प्रत्याशी के रूप में जिला प्रमुख का चुनाव जीत गईं. रमा देवी ने BJP प्रत्याशी के रूप में अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को सिर्फ एक वोट से हरा दिया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आरोप लगाया कि भाजपा ने जयपुर जिला परिषद में धन बल का सहारा लेकर अपना जिला प्रमुख बनाया है. वहीं, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने रमा देवी को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है.Also Read - Rajasthan Panchayat Election Result: पंचायत चुनाव में 'भारी बहुमत के साथ जीती कांग्रेस पार्टी', प्रदेशाध्यक्ष बोले- पांच जिलों में भाजपा का सूपड़ा साफ

राजस्थान के छह जिलों में जिला परिषद प्रमुख के चुनाव सोमवार को हुए. इनमें सत्तारूढ़ कांग्रेस व मुख्य विपक्षी दल भाजपा तीन-तीन जगह अपने बोर्ड बनवाने में सफल रहीं. राज्य के 6 जिलों जयपुर, जोधपुर, भरतपुर, सवाईमाधोपुर, दौसा और सिरोही में 200 जिला परिषद सदस्य, 78 पंचायत समितियों में 1564 पंचायत समिति सदस्यों के लिए तीन चरणों में हुए मतदान के परिणाम शनिवार को जारी किए गए थे. Also Read - Rajasthan Panchayat Chunav Result: जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के लिए हुए चुनाव का परिणाम शनिवार को, जानें सभी अपडेट्स

जयपुर जिला परिषद में रमा देवी ने चाकसू विधानसभा क्षेत्र के वार्ड 17 से कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में जिला परिषद का चुनाव जीता था, लेकिन जिला प्रमुख पद का उम्मीदवार नहीं बनाए जाने से नाराज होकर वह मतदान से कुछ घंटे पहले BJP में शामिल हो गईं. यह वार्ड कांग्रेस विधायक वेदप्रकाश सोलंकी के विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है, जो पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के करीबी माने जाते हैं. जिला प्रमुख के चुनाव में रमा देवी ने कांग्रेस की सरोज देवी को सिर्फ एक वोट से हराया. Also Read - Rajasthan Panchayat Chunav: राजस्थान में पहले चरण का चुनाव संपन्न, 61.41 प्रतिशत हुआ मतदान

जयपुर जिला प्रमुख चुनाव में हुए घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि कल तक सरकार पर सत्ता का दुरुपयोग का आरोप लगा रही भाजपा ने जयपुर जिला परिषद में ‘हॉर्स ट्रेडिंग’ (खरीद-फरोख्त) का सहारा लेकर अपना जिला प्रमुख बनाया है. यदि कांग्रेस सरकार पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की भांति सत्ता का दुरुपयोग करती तो ऐसा संभव ही नहीं होता. गहलोत ने कहा,’ इस हॉर्स ट्रेडिंग में वही लोग शामिल हैं जो पहले भी राजस्थान में सरकार गिराने का कुप्रयास कर चुके हैं.’

वहीं, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने रमा देवी को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है. डोटासरा ने जयपुर जिला प्रमुख चुनाव में हुए घटनाक्रम को पार्टी प्रत्याशी द्वारा पीठ में छुरा घोंपने और विश्वासघात की हरकत करार दिया. उन्होंने संवाददाताओं से कहा,’ सत्ता का नंगा नाच जयपुर जिला प्रमुख चुनाव में नजर आया. जयपुर में लोकतंत्र का चीरहरण किया गया, हमारे साथ विश्वासघात हुआ है व पीठ में छुरा घोंपा गया है.’

डोटासरा ने कहा कि चुनाव परिणाम में कांग्रेस को छह जिला परिषदों में से चार में बहुमत मिला था, जबकि भाजपा ने एक जिला परिषद में स्पष्ट बहुमत हासिल किया था और एक में वह बहुमत के करीब थी. हालांकि, भाजपा ने तीन जिला परिषदों में बोर्ड बनाए हैं. उन्होंने कहा कि पंचायत समितियों में 50 प्रधान कांग्रेस के बने हैं, 25 भाजपा के प्रधान और 3 निर्दलीय बने हैं. डोटासरा ने कहा कि जयपुर जिला परिषद् में बहुमत होने के बावजूद कांग्रेस के कुछ साथियों द्वारा पार्टी के साथ धोखा करने के कारण जिला प्रमुख नहीं बन सका किन्तु जनता सब देख रही है.

बता दें कि भरतपुर, दौसा, जयपुर, जोधपुर, सवाईमाधोपुर एवं सिरोही जिलों में महन चरण में 26 अगस्त, 29 अगस्त और एक सितंबर को मतदान हुआ था. इन छह जिलों में जिला परिषद सदस्यों की कुल 200 सीटों में 99 सीटें जीतकर कांग्रेस आगे रही वहीं भाजपा के खाते में 90 सीटें आईं. आठ निर्दलीय व बसपा के तीन उम्मीदवार भी जिला परिषद सदस्य चुने गए. इन जिलों में उप जिला प्रमुख, उप प्रधान का चुनाव सात सितंबर को होगा.

(इनपुट: भाषा)