नई दिल्ली: जो कांग्रेस के साथ मध्य प्रदेश में हुआ, क्या वही राजस्थान में होगा, फिलहाल ये कहना मुश्किल है, लेकिन सचिन पायलट (Sachin Pilot) पार्टी या कहें अशोक गहलोत (Ashok Gahlot) से बेहद नाराज ज़रूर हैं, और कहा जा रहा है कि वह विद्रोह पर आमादा हैं और अपने समर्थक विधायकों के साथ दिल्ली पहुँच गए हैं. सियासी उठापटक के बीच राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने अपने मंत्रिमंडल के कई मंत्रियों और विधायकों से मुलाकात की है. Also Read - अशोक गहलोत ने कांग्रेस विधायकों को क्यों दिलाई अटल बिहारी वाजपेयी की याद, लिखा ये पत्र

अशोक गहलोत और सरकार में मंत्रियों के बीच बातचीत हुई है. मीटिंग के बाद मंत्री-विधायक आश्वस्त दिखे कि कांग्रेस सरकार को कोई खतरा नहीं है. विधायक राम लाल ने कहा कि राजस्थान में अशोक गहलोत ही कांग्रेस हैं और कांग्रेस का मतलब अशोक गहलोत है. राजस्थान में कांग्रेस सरकार को कोई ख़तरा नहीं है. कांग्रेस सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. Also Read - राजस्थान: पाकिस्तान से आए हिंदू शरणार्थी परिवार के 11 सदस्य मृत मिले, वजह का पता नहीं

खेल मंत्री अशोक चंदना ने कहा कि मध्य प्रदेश से सबक लेना चाहिए. जो विधायक सब कुछ छोड़कर बीजेपी में गए, उनमें से अधिकतर को कुछ हासिल नहीं हुआ है. ये सब चुनाव हार जाएंगे. लोगों को इस बारे में सोचना चाहिए. Also Read - राहुल गांधी का मोदी सरकार पर हमला, बोले- जब जब देश भावुक हुआ, फाइलें गायब हुईं

वहीं, राजस्थान कांग्रेस के इंचार्ज अविनाश पांडे ने कहा कि जो कांग्रेस विधायक दिल्ली गए थे, उनसे बात हो गई है, इन विधायकों में से अधिकतर जयपुर लौट आए हैं. उन्होंने आरोप लगाया है कि बीजेपी कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है, लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे. सब कुछ ठीक है.