जयपुर: राजस्थान के कोटा और आसपास के इलाकों में शनिवार रात से हो रही लगातार बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं. सड़कों पर पानी ही पानी नजर आ रहा है और रास्‍तों में बचाव के लिए नावें तक चलाई जा रहीं हैं. कई कॉलोनियों में निचले तल पर पानी भर जाने से लोग छतों पर या पहली मंजिल पर शरण लिए हुए थे. राहत कार्य अब भी जारी है. राज्य के अन्य स्थानों पर भी लगातार हो रही बारिश के कारण आम जनजीवन प्रभावित हुआ है. आपदा राहत दल के एक सदस्य ने बताया, अब तक करीब 100 से अधिक लोगों को अन्य स्थानों पर भेजा गया है.

MP: कई जिलों में बारिश से बाढ़ जैसे हालात, तो कई जिलों में मंडराया सूखे का खतरा

विभाग ने बांरा, भीलवाड़ा, बूंदी, चित्तौड़गढ़, कोटा और राजसमंद में कुछ स्थानों पर रविवार को मूसलाधार बारिश और राज्य के अन्य जिलों में कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का पूर्वानुमान जताया है.

बाढ़ जैसे हालात का सामाना कर रहे कोटा और आसपास के इलाकों में लोगों की मदद के लिए राज्य आपदा राहत प्रबंधन दल को लगाया गया है. रविवार को आपदा राहत दल ने 100 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया.

मौसम विभाग के अनुसार कोटा में शनिवार रात से रविवार सुबह तक 151.8 मिलीमीटर, सवाईमाधोपुर में 68 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. इसी समयावधि में राज्य के अन्य कई स्थानों पर 60 मिलीमीटर से कम बारिश दर्ज की गई.

कोटा के जिला कलेक्टर मुक्तानंद अग्रवाल ने बताया, जलभराव वाले कई क्षेत्रों में आपदा राहत प्रबंधन के दलों को लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के काम में लगाया गया है. कई स्थानों पर बारिश का पानी घरों में घुस जाने के कारण निचले तल पर रहे लोगों को अन्य स्थानों पर स्थानांतरित किया गया है.