नई दिल्ली: राजस्थान (Rajasthan) में हर पल सियासी खेल बदल रहा है. सीएम अशोक गहलोत ने सीएम हाउस में अपने विधायकों की परेड कराकर अपनी ताकत दिखाई और कहा कि उनके पास पर्याप्त मात्रा में विधायकों का समर्थन हांसिल हैं. इस बीच अब राजस्थान की राजनीति में रिसार्ट पॉलटिक्स की भी एंट्री हो गई है. सबसे बड़ी बात यह है कि राजस्थान अपने ही घर में रिसार्ट पालटिक्स का शिकार हो गई है. सीएम अशोक गहलोत ने सीएम हाउस में मीटिंग के बाद अब सभी विधायकों को तीन लग्जरी बसों में भरकर होटल भेज दिया है. Also Read - सचिन पायलट की लैंडिंग के बाद आज से शुरू होगा विधानसभा सत्र, कांग्रेस लाएगी विश्वासमत प्रस्ताव, जानें भाजपा की रणनीति

अभी इस बात की जानकारी नहीं मिली है कि आखिर किन कारणों से कांग्रेस ने यह कदम उठाया है. क्या अशोक गहलोत ने भाजपा से बचने के लिए विधायकों को होटल में भेजा है या फिर सचिन पायलट से बचने के लिए. Also Read - राजस्थान: विश्वास मत लाएगी कांग्रेस, अशोक गहलोत बोले- हम 'इनके' बिना भी बहुमत में थे, लेकिन अपने तो अपने होते हैं

सीएम अशोक गहलोत ने पहले तो सीएम हाउस में अपने विधायकों की परेड कराई और फिर मीडिया के सामने विक्ट्री साइन भी दिखाया. इससे लगता है कि फिलहाल राजस्थान सरकार के ऊपर से संकट टल गया है. अशोक गहलोत खुद बस में बैठकर विधायकों के साथ बस में गए हैं इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि राजस्थान में विश्वास किस कदर  कमजोर हो गया है. Also Read - मुस्कुराए, गर्मजोशी से मिलाया हाथ: गतिरोध के बाद कुछ ऐसे मिले अशोक गहलोत और सचिन पायलट, अगल-बगल में बैठे, VIDEO

बताया जा रहा है कि अब एक बार फिर से अशोक गहलोत सचिन पायलट से बात करेंगे और अगर वे मान जाते हैं तो फिर सभी विधायकों को घर भेज दिया जाएगा. इस बीच यह भी खबर सामने आई है कि सीएम अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री के बीच सुलह कराने के लिए प्रियंका गांधी पायलट से बात कर रही हैं.

सूत्रों की मानें तो पायलट ने प्रियंका के सामने कुछ शर्ते रखीं है और अगर उन्हें पूरा किया जाता है तो वो मान सकते हैं. इससे पहले कई बार राजस्थान कांग्रेस के कई बड़े नेताओं ने सचिन से बात की लेकिन उनकी यह कोशिशें नाकाम रहीं.