जयपुर: हाथरस जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी के साथ पुलिस व प्रशासन के व्यवहार की भर्त्सना करते हुए कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने शुक्रवार को कहा उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार विपक्ष की आवाज को दबाने का प्रयास कर रही है. हाथरस प्रकरण में पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी को पुलिस ने रास्ते में रोककर हिरासत में ले लिया. Also Read - मध्यप्रदेश की मंत्री को कहा ‘आइटम’, राहुल गांधी बोले- मैं कमलनाथ जी की भाषा का समर्थन नहीं करता

इस घटना की ओर इशारा करते हुए पायलट ने संवाददाताओं से कहा,’ मुख्यमंत्री योगी व पूरे प्रशासन ने विपक्ष की आवाज दबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. राहुल गांधी व प्रियंका गांधी के साथ कल जो बर्ताव किया गया वह अशोभनीय है निंदनीय है. संस्कार, मानवता संविधान व कानून सबकी धज्जियां उड़ाई गयीं.’ Also Read - राहुल गांधी की नाराजगी को भी कमलनाथ ने नहीं दी 'तवज्जो', 'आइटम' वाले बयान पर माफी मांगने से इनकार

पायलट ने कहा,’ पूरे देश में आज आक्रोश इस बात को लेकर है कि इस घिनौने जुर्म को करने वालों को बचाने का प्रयास उत्तर प्रदेश सरकार कर रही है.’ उन्होंने कहा, ‘ क्रूरता से सबूतों को नष्ट करने की कोशिश की जा रही है. रात के ढाई बजे पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया घरवालों को दूर रखा गया.’ Also Read - कमलनाथ के 'आइटम' वाले बयान को राहुल गांधी ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण, कहा- 'मुझे इस तरह की भाषा पसंद नहीं'

कांग्रेस नेता ने कहा,’बलात्कार जैसे घिनौने कर्म करने वाले चाहे देश के किसी कोने में हों उन्हें मौत की सजा मिलनी चाहिए. लेकिन पहली बार देखा कि पुलिस प्रशासन व सरकार ने जानबूझकर सबूत मिटाने की कोशिश की और वहां के जिला कलेक्टर ने पीड़िता के परिजनों को धमकाने की कोशिश की.’

राज्य की कांग्रेस सरकार के चुनावी वादों पर पायलट ने कहा,’ चुनाव में जो वादे किए थे उन पर अच्छी प्रगति हुई है. मुझे लगता है कि सरकार ने चुनावों व कोरोना के बीच सीमित संसाधनों से जितना हो सकता था, किया.’