जयपुर: राजस्थान के कृषि विभाग ने जयपुर जिले में टिड्डियों को नियंत्रित करने के लिए कीटनाशक के छिड़काव के लिए एक ड्रोन की मदद ली है. जयपुर जिले के चौमू के पास सामोद में ड्रोन का उपयोग किया गया. बता दें कि पाकिस्तान से 11 अप्रैल को भारत में घुसे टिड्डियों के दल राज्य के छह जिलों में प्रवेश कर चुके हैं. Also Read - राजस्थान सरकार का फैसला, ग्रामीण क्षेत्रों में 1 जुलाई से छोटे मंदिर फिर से खुलेंगे

कृषि विभाग के आयुक्त ओमप्रकाश ने बताया, ”हमने किराए पर लिए गए ड्रोन का उपयोग करना शुरू किया है और आने वाले कुछ दिनों के आवश्यकतानुसार और ड्रोन इस्तेमाल किए जाने की संभावना है.” Also Read - Coronavirus in Rajasthan Update: 24 घंटे में 121 नए मामले, कोविड-19 से अब तक 400 से अधिक लोगों की मौत

कृषि विभाग के आयुक्त ने बताया कि ड्रोन ऊंचाई से कीटनाशक का छिड़काव करने में उपयोगी होते हैं और पहाड़ी इलाकों में ट्रैक्टर में लगे छिड़काव यंत्रों (माउंटेड स्प्रेयर) के जरिये कीटनाशक छिड़का जाता है, क्योंकि वहां अन्य वाहन नहीं जा सकते. Also Read - राजस्थान सरकार ने बदला 14 दिन के अनिवार्य होम क्वारंटाइन का नियम, अब दूसरे प्रदेश से गए तो...

ड्रोन से 15 मिनट की उड़ान में लगभग 2.5 एकड़ क्षेत्र में कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव किया जा रहा है. राज्य में टिड्डी नियंत्रण के लिए ड्रोन और छिड़काव यंत्र वाले ट्रैक्टरों के अलावा दमकल के वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा है.