जयपुर: राजस्थान के टोंक जिले के मालपुरा कस्बे में मंगलवार की रात सांप्रदायिक तनाव फैलने के बाद बुधवार को सुबह कर्फ्यू लगा दिया गया. मंगलवार की शाम दशहरा जुलूस के दौरान पथराव के बाद से इलाके में हालात बिगड़ गए थे. यह घटना उस वक्त हुआ जब जुलूस आरएसी चौकी के पास से गुजर रहा था और लोग जुलूस का स्वागत फूलों से कर रहे थे. इसी बीच कुछ लोगों ने जुलूस पर पथराव कर दिया जिससे वहां भगदड़ मच गई.

इस घटना से नाराज होकर इलाके के विधायक कन्हैयालाल अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए. विधायक और उनके समर्थकों ने कल रावण दहन भी नहीं होने दिया. इनकी मांग है कि जब तक पथराव करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा तब तक रावण दहन नहीं होगा.

प्रशासन को इस बात का डर था कि पथराव की वजह से सुबह होने पर कहीं इलाके में हालात ना बिगड़ जाए. इसी बात से घबराए प्रशासनिक अधिकारियों ने नगरपालिका के कर्मचारियों के साथ मिलकर सुबह करीब 4.30 बजे रावण का दहन कर 6 बजे कर्फ्यू लगा दिया. आपको बता दें कि विधायक अब भी थाने के बाहर धरने पर अपने समर्थकों के साथ बैठे हुए हैं.

पुलिस ने बताया कि हिंदू समुदाय के सदस्यों ने पथराव में शामिल आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरना दिया है. टोंक के पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धू ने कहा, ‘आज सुबह मालपुरा कस्बे में कर्फ्यू लगा दिया गया. अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है.’

उनके अनुसार, पथराव के सिलसिले में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है और अन्य लोगों को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है. कर्फ्यू लगाए जाने से पहले अल सुबह पुतलों का दहन पालिका कर्मियों ने किया.

पुलिस थाने में आईजी संजीव कुमार नर्सरी खुद मौजूद हैं. पुलिस का इस मामले में कहना है कि हमने 6-7 लोगों को हिरासत में लिया है. थाने में कलेक्टर और एसपी समेत कई पुलिस प्रशासनिक अधिकारी मौजूद हैं. अधिकारियों का कहना है कि इस मामले में जांच की जा रही है. इस घटना में जो भी संलिप्त होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

(इनपुट-भाषा)