जयपुर: राजस्थान में सरकारी चिकित्सकों और रेजिडेंट चिकित्सकों की हड़ताल बुधवार को खत्म हो गई.राज्य सरकार के साथ अपनी मांगों को लेकर सहमति बनने के बाद चिकित्सकों ने हड़ताल खत्म करने का निर्णय किया है. इसके साथ ही कल से प्रदेश में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं फिर से सुचारू हो जाएगी. Also Read - Sexual Harassment of Women Doctors: ऑनलाइन सेशन में मरीज महिला डॉक्टरों से कर रहे गंदी बातें

अखिल राजस्थान सेवारत चिकित्सक संघ और रेजिडेंट चिकित्सकों के प्रतिनिधियों की राज्य सरकार से हुई बातचीत के बाद यह सहमति बनीं.अधिकारिक समझौते के अनुसार राज्य सरकार ने रेजिडेंट चिकित्सकों की पीजी एवं अन्य सम्बधित मागों पर सहमति जतायी है तो वहीं राजस्थान सेवारत चिकित्सिकों की मांग को मंत्रिमंडल की उप समिति के पास भेजने पर रजामंदी हुई है. Also Read - 'कोरोना की ड्यूटी' में लगे डॉक्टरों को मिलेगी छुट्टी? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को दिया ये निर्देश

यह भी पढ़ें: राजस्थान सरकार के कर्मचारी शुक्रवार को सामूहिक अवकाश पर जाएंगे Also Read - पीजी कोर्स पूरा करने के बाद दस साल तक नौकरी नहीं छोड़ सकेंगे सरकारी डॉक्‍टर, अगर छोड़ी तो...

समझौते के अनुसार सरकार सेवारत चिकित्सकों की सामूहिक अवकाश और हड़ताल के दिवस को उपार्जित अवकाश में शामिल करने, सरकार द्वारा पूर्व की नीति के अनुसार अनुशानात्मक ,विभागीय कार्रवाई और रेस्मा के तहत की गई कार्रवाई को वापस लेने के लिए सकारात्मक रूख अपनायेगी. यही नीति रेजिडेंट चिकित्सकों के मामले में भी अपनायी जायेगी.

सेवारत चिकित्सक अपनी मांगों को लेकर विगत 16 दिसम्बर से सामूहिक अवकाश पर थे. इस बीच भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी की मध्यस्थता में हुई बातचीत में परनामी के अलावा राज्य के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री काली चरण सराफ चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री बंशीधर, सार्वजनिक निर्माण मंत्री युनूस खान, सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक शामिल थे.