कोटा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए मशहूर कोटा में एक और खुदकुशी का मामला सामने आया है. बिहार की 16 साल की एक छात्रा ने यहां आधारशिला इलाके में बुधवार को एक नदी में छलांग लगा कर आत्महत्या कर ली. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बिहार के मधुबनी जिला निवासी शिप्रा रंजन ने मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में दाखिले के लिए राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) की तैयारी को लेकर यहां जून में एक कोचिंग संस्थान में दाखिला लिया था.

नदी में छलांग लगा दी

उन्होंने बताया कि 11 वीं की छात्रा ने सुबह करीब सात बजे चंबल नदी में कथित तौर पर छलांग लगा दी. एक बचाव अभियान शुरू किया गया लेकिन जब तक कि उसे बचाया जाता, उसकी मौत हो चुकी थी.

पत्थरबाजी से दूर डॉक्टर-इंजीनियर बनने कोटा पहुंच रहे हैं कश्मीर के युवा

अधिकारी ने बताया कि पहली नजर में यह आत्महत्या का एक मामला लगता है. हालांकि, कोई सुसाइड नोट नहीं बरामद किया गया. उसके छात्रावास का कमरा और थैलों की तलाशी ली जानी बाकी है. बताया जा रहा है कि वह पढ़ाई में अच्छी थी. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

कोटा में किसी छात्र के खुदकुशी का ये पहला मामला नहीं है. ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जिनमें छात्रों ने पढ़ा-करियर के दबाव में घुटने टेकते हुए जान दे दी. बड़ा करियर बनाने का सपना देखने वाले छात्र यहां पहुंचते हैं और प्रतियोगिता की तैयारी में लग जाते हैं. कुछ छात्र पढ़ाई का दबाव झेल नहीं पाते और हिम्मत हार बैठते हैं. घर लौटने में भी उन्हें परिवार और समाज के तानों का डर रहता है, ऐसे में उन्हें आखिरी विकल्प आत्महत्या का ही नजर आता है.