जयपुर: राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा है कि किसानों के लिए कर्जमाफी की घोषणा के बाद राज्य सरकार जल्द ही युवाओं की रोजगार की जरूरतों को पूरा करने के लिए भी कदम उठाएगी. उन्होंने कहा है कि किसानों के मुद्दे और युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना राज्य की कांग्रेस सरकार के एजेंडे में प्राथमिकता में रहेंगे.

उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल के गठन के बाद सरकार ने अपना काम शुरू कर दिया है और सरकार घोषणा पत्र के अनुरूप अपने कार्य को मूर्त रूप देना शुरू करेगी. पायलट ने मंगलवार को कहा हमने पहले ही दिन से किसानों की कर्जमाफी के साथ अपना काम करना शुरू कर दिया है. उन्होंने कहा कि कृषि संकट सरकार के एजेंडे में शीर्ष पर है और बहुत जल्द सरकार द्वारा किसान समुदाय के लिए ‘इको सिस्टम’ को मजबूत बनाने के लिए त्वरित और ठोस कदम उठाए जाएंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि खेती एक लाभदायक व्यवसाय बन जाए.

स्मृति शेष: जब मुर्शरफ ने वाजपेयी से कहा, आप प्रधानमंत्री होते तो नजारा कुछ और होता

वादो को पूरा करने की जिम्मेदारी
उन्होंने कहा कि हम शीघ्र ही युवाओं के लिये प्राथमिकता के आधार पर रोजगार पैदा करने का काम शुरू करेंगे. सरकार किसानों के मुद्दे और युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए सैद्धांतिक रूप से अपना ध्यान केन्द्रित कर रही है क्योंकि राजस्थान को ऐसी सरकार की आवश्यकता है जो दोनों मोर्चों पर अपने वादो को पूरा कर सके. उप मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी ने अपना घोषणा पत्र मुख्य सचिव को दे दिया है और सरकार द्वारा कार्य करने के लिये इसे एक आधिकारिक दस्तावेज बनाया जायेगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने जिन योजनाओं के वादे किए हैं उन्हें शीघ्र ही आगे बढाया जाएगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शपथ ग्रहण करने के दो दिन बाद 19 दिसम्बर को किसानों के कर्ज माफ करने की घोषणा की थी. राजस्थान की नवनिर्वाचित अशोक गहलोत सरकार ने पिछले सप्ताह किसानों का सहकारी बैंक से लिया गया अल्पकालीन कर्ज और दो लाख रूपये तक के कृषि ऋण माफ करने की घोषणा की थी. इससे सरकारी खजाने पर लगभग 18 हजार करोड़ रुपये का बोझ आएगा.

12 साल की उम्र में केदारनाथ प्रलय में बिछड़ी चंचल, पांच साल बाद परिवार को मिली

चुनौतियों का सामना करने में सक्षम
जब उनसे ऋण माफी से सरकार पर पड़ने वाले आर्थिक बोझ को जुटाने के बारे में पूछा गया तो पायलट ने बताया कि सरकार इस तरह की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम है. उन्होंने कहा कि राजनीतिक इच्छा शक्ति होने पर संसाधन जुटाना बहुत बडा काम नहीं है. पूर्व संप्रग सरकार ने 72 हजार करोड रूपये के किसानों के कर्ज माफ किए थे, इसलिए हम इसे कर सकते है. मुझे विश्वास है कि सरकार इस तरह की चुनौतियों का सामना करने के लिये पूरी तरह सक्षम है. पायलट, जो पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष भी है, ने कहा कि किसानों की ऋण माफी से ना केवल किसानों की मदद हुई है बल्कि इससे किसानों के अलावा अन्य लोगों को भी संदेश पहुंचा है कि नई सरकार लोगों को सुनने को तैयार है और उनकी समस्याओं का समाधान करने को तैयार है.

श्रद्धांजलि: अटल बिहारी वाजपेयी का स्मारक ‘सदैव अटल’ राष्ट्र को समर्पित

किसान और युवा हमारी प्राथमिकता
इसी तरह युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने के वास्ते पायलट ने कहा कि इस तरह का तंत्र विकसित किया जायेगा जो लगातार नौकरियां पैदा करेगा और भर्तियां निकाली जायेगी. उन्होंने कहा कि राजस्थान की जनता को हमने अपनी प्रतिबद्वता दिखाई है. किसानों का कर्जा माफी पहला निर्णय था और अन्य निर्णय इसके बाद लिये जायेंगे. किसान और युवा भाजपा सरकार की कभी प्राथमिकता नहीं रहे. सोमवार को हुए मंत्रिमंडल विस्तार के बारे में पायलट ने कहा कि यह विस्तार युवा और अनुभवी नेताओं के बीच एक उर्जावान संतुलित मंत्रिमंडल है. उन्होंने कहा कि हम भविष्य की ओर देख रहे हैं, हमारा मंत्रिमंडल पूरी तरह से उर्जावान है, सरकार चुनौतियों का सामना करने के लिये हर तरीके से तैयार है और जनता की उम्मीदों को पूरा करने का प्रयास करेगी.