Political Drama in Rajasthan before Rajya Sabha Election: राजस्थान में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए होने वाले चुनाव से पहले राजनीतिक गहमागहमी तेज हो गई है. राज्य की अशोक गहलोत सरकार ने भाजपा पर उनकी सरकार को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया है. इस संबंध में राज्य सरकार ने एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) के महानिदेशक को पत्र लिखकर सरकार को अस्थिर करने वाली ताकतों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. इसके साथ ही कांग्रेस पार्टी ने अपने विधायकों को शिव विलास रिसॉर्ट में रखा है. यहां पर नेताओं की लगातार बैठक जारी है. Also Read - राजस्थान भाजपा प्रमुख बोले- हम 75 हैं, पर कई विधायक हमसे जुड़ना चाहते हैं

विधायक और विधानसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कहा कि विधायकों को लगातार फोनकर उनकी खरीद फरोख्त के प्रयास किए जा रहे हैं. सरकार ने इस बारे में एक लिखित शिकायत डीजीपी को भी की है. Also Read - राजस्थान का सियासी संकट: कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म, बस से होटल भेजे गए सभी विधायक

उधर, भाजपा का कहना है कि गहलोत सरकार के भीतर ही अंतर्कलह है. इसलिए वह डरे हुए हैं. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि अगर सरकार के भीतर कलह नहीं है तो कांग्रेस पार्टी को अपने विधायक बाड़े में रखने की क्या जरूरत है. Also Read - सीएम अशोक गहलोत, नेताओं और कांग्रेस MLAs ने दिखाया विक्‍ट्री साइन, क्‍या खतरा टला?

इस बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार रात कहा कि पार्टी के विधायक एकजुट हैं और वे किसी तरह के लोभ व लालच में नहीं आएंगे. उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि कुछ कांग्रेस विधायकों को 25 करोड़ रुपये तक की पेशकश की गई है.

दिल्ली राजमार्ग पर एक होटल में कांग्रेस व उसके समर्थक विधायकों की देर रात तक चली बैठक के बाद गहलोत ने संवाददाताओं से कहा कि बैठक बहुत फलदायी रही और सब एकजुट होकर यहां से गए हैं.

उन्होंने कहा,’ हमारे विधायक बहुत समझदार हैं वे समझ गए. उन्हें खूब लोभ लालच देने की कोशिश की गयी. लेकिन यह हिंदुस्तान का एकमात्र राज्य है जहां एक पैसे का सौदा नहीं होता. यह इतिहास में कहीं नहीं मिलेगा. मुझे गर्व है कि मैं ऐसी धरती का मुख्यमंत्री हूं जिसके लाल बिना सौदे के बिना लोभ लालच के सरकार का साथ देते हैं कि सरकार स्थिर रहनी चाहिए राज्य में.’

राज्य के कुछ विधायकों को प्रलोभन दिए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा,’करोड़ों अरबों रुपये भेजे जा रहे हैं. सुन रहे हैं कि नकदी स्थानांतरित हो रही है जयपुर में. कौन भेज रहा है. बांटने के लिए एडवांस देने की बातें हो रही हैं. आप लीजिए दस करोड़ एडवांस ले लीजिए. बाद में दस और देंगे फिर पांच और देंगे. क्या हो रहा है. खुला खेल हो रहा है यहां पर.’