नई दिल्‍ली: राजस्थान में विधानसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है. सूबे की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे गौरव यात्रा के माध्यम से सरकार की उपलब्धियां जनता को बता रहीं हैं. ताकि बीजेपी दोबारा सत्‍ता के सिंहासन पर काबिज हो सके. ऐसे में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के लिए उनके अपने ही निर्वाचन क्षेत्र झालरापटन से आगामी विधानसभा चुनावों में एक महिला के विरोध का सामना करना पड़ सकता है. क्‍योंकि राजस्थान कैडर के सीनियर IPS अधिकारी पंकज चौधरी की पत्नी मुकुल पंकज चौधरी झालरापटन सीट से विधानसभा चुनाव लड़ेंगी.

हमारे सहयोगी अखबार डीएनए की रिपोर्ट के मुताबिक, मुकुल इसे अपने पति के सम्मान के लिए लड़ाई मानती हैं, जिनका वर्तमान सरकार में उत्पीड़न किया गया है. मुकुल की मां शसी दत्ता भैरों सिंह शेखावत सरकार में मंत्री थीं लेकिन बाद में वह बसपा में चली गई थीं. डीएनए से बातचीत में मुकुल ने बताया कि “हां मैं झालरापटन से से चुनाव लड़ूंगी. मैं पांच दिनों के बाद वहां जा रही हूं और चुनाव लड़ने की दिशा में काम करना है. असल में यह एकमात्र लोकतांत्रिक तरीका है जिसे मैं अपने पति के साथ हुए अन्याय का विरोध कर सकती हूं. कहा कि मेरे पति समाज के सुधार की प्रतिबद्धता के साथ एक ईमानदार अधिकारी हैं और उन्‍होंने इसकी कीमत सात चार्ज शीट के रूप में चुकाई है.

विधानसभा चुनावों में वीवीपैट और ईवीएम एम.3 मशीनों के जरिए होगा मतदान: मुख्य चुनाव आयुक्त

पति के अपमान का बदला होगा चुनाव में जीत- मुकुल
उन्‍होंने कहा कि यह एक आसान तरीका है अपने पति के अपमान का बदला लेने के लिए. इस चुनाव में अपनी मां और बीजेपी के पुराने सहयोगियों की मदद से लोकतांत्रिक लड़ाई लड़ूंगी, जो कि सिर्फ जीतने के लिए होगी. बता दें कि मुकुल ने जयपुर के पोद्दार इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट से फाइनेंस में एमबीए किया है. मुकुल की मां शशि दत्ता भैरों सिंह शेखावत सरकार में कानून मंत्री थीं. बाद में उन्होंने बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के टिकट पर 2008 के विधानसभा चुनाव लड़ा, लेकिन हार गईं. उनके पिता सोम दत्ता एक IAS अधिकारी थे.

राजस्थान: सरकार ने मांगें नहीं मानी तो आधे नंगे होकर सड़क पर उतर आए बिजलीकर्मी

वाराणसी के रहने वाले हैं पंकज चौधरी
बता दें कि पंकज चौधरी 2009 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं जो वाराणसी के रहने वाले हैं. वह एक इंजीनियर भी हैं और एक राज्य स्तरीय क्रिकेटर भी रहे हैं. पंकज चौधरी वर्तमान समय के साथ वसुंधरा सरकार के साथ विवाद के चलते सात चार्जशीट पा चुके हैं.